Potato Price : आलू के दाम जबरदस्त उछाल, जानिए कितने रुपये किलो बिक रहा आलू?

Potato Price : आलू एक ऐसा सब्जी है, जो हर घर में बड़े चाव से पकाया और खाया जाता है. आलू की एक और खासियत है कि आप आलू को किसी भी सब्जी के साथ मिक्स करके आसानी से बना सकते हैं. आलू के भाव पिछले दो दिन स्थिर रहने के बाद अचानक बुधवार को एकाएक आलू के भाव में तेजी देखने को मिली है. ऐसे में आलू का दाम फिर बढ़ने से लोगों पर एक बार फिर महंगाई की मार पड़ी है. आइए जानते है कि आज मंडियों में किस भाव पर आलू बिक रहा है.

35 से 40 रुपये किलो बिक रहा आलू

Potato Price : आलू के दाम जबरदस्त उछाल, जानिए कितने रुपये किलो बिक रहा आलू?

देश की राजधानी में भी अन्य राज्यों के मुकाबले आलू महंगे दामों पर बिक रहा है. आजाद पुर मंडी के रेट लिस्ट के हिसाब से सफेद आलू का न्यूनतम मूल्य 500 तो, वहीं लाल आलू का न्यूनतम मूल्य 1200 रुपये प्रति कुंतल तय किया गया है. जबकि मंडी में अधिक्तम रेट के साथ सफेद आलू 1800 रुपये, वहीं. लाल आलू 5100 रुपये प्रति किलो तक बिक रहा है. वहीं, शहर के फुटकर रेट की बात करे तो शहर में सफेद आलू 20 से 25 रुपये और लाल आलू 35 से 40 रुपये तक प्रति किलो बिक रहा है.

उत्तर प्रदेश के शहरों में बढ़े आलू के दाम

Potato Price : आलू के दाम जबरदस्त उछाल, जानिए कितने रुपये किलो बिक रहा आलू?

उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर में दो दिन पहले आलू का रेट 1245 रुपये प्रति कुंतल था, जो अब मेरठ के कई मंडियों में 1300 से 1375 रुपये प्रति कुंतल तक बिक रहा है. वहीं, फरुखाबाद के मंडियों में आलू 1195 रुपये प्रति कुंतल बिक रहा था, जो अब 1275 रुपये प्रति कुंतल बिक रहा है . वहीं, कानपुर में अन्य शहरों के मुकाबले भी आलू कम दामों बढ़े है. कानपुर में दो दिन पहले आलू 970 रुपये प्रति कुंतल बिक रहा था, जो अब 1025 रुपये प्रति कुंतल बिक रहा है. वहीं, प्रदेश की राजधानी लखनऊ की बात करे तो यहां पर आलू 1100 रुपये प्रति कुंतल था, जो अब 1250 रुपये कुंतल के रेट से बिक रहा है. वहीं, आलू के फुटकर रेट की बात करे तो प्रदेश में आलू 25 से 30 रुपये किलो तक बिक रहा है.

पेट्रोल और डीजल के कारण महंगी हुई खेती

Potato Price : आलू के दाम जबरदस्त उछाल, जानिए कितने रुपये किलो बिक रहा आलू?

वहीं, मंडियों में आलू के दाम बढ़ने से किसान खुश नजर आ रहे हैं. किसानों को उम्मीद है कि मंडी में आलू का अच्छा भाव मिलने से उन्हें उनके लागत का पैसा मिल जाएगा. बता दें कि खेती कर रहे किसानों का कहना है कि लगातार बढ़ रहे पेट्रोल और डीजल के दामों से खेती पर भी असर पड़ा है. बता दें कि खेत की जुताई और सिंचाई के लिए जिस उपकरण का उपयोग किसान करते हैं. वह उपकरण कच्चे तेलों से ही चलाए जाते है.