Ipl 2022 Retention : Rr ने इन 3 खिलाड़ियोें को किया रिटेन, लिस्ट से 2 बड़े खिलाड़ी का नाम गायब

IPL 2022 Retention : आईपीएल क्रिकेट लीग दुनिया का सबसे पसंदीदा लीग है. अगले साल आईपीएल 2022 में इसका रोमांच और बढ़ने वाला है. क्योंकी आईपीएल के 15वें सीजन में इस बार 8 की जगह 10 टीमें खेलती नजर आएंगी. इसके लिए लखनऊ और अहमदाबाद की फ्रेंचाइजी को चुनाव हो चुका है. वो भी इस बार मेगा ऑक्शन में हिस्सा लेंगी. ऐसे में अगले साल होने वाले आईपीएल में रोमांच का और तड़का लगने वाला है. इसके साथ ही लगभग सभी टीमों में बड़ा बदलाव भी देखने को मिल सकता है. ऐसे में सबकी नजरें अब आईपीएल 2022 से पहले होने वाले मेगा ऑक्शन पर टिकी हुई है. रिपोर्ट्स के अनुसार दिसंबर महीने के पहले सप्ताह में मेगा ऑक्शन हो सकता है.

राजस्थान रॉयल्स

आईपीएल के अब तक के इतिहास में राजस्थान रॉयल्स का प्रदर्शन ठीक-ठाक रहा है. आईपीएल के अब तक के खेले गए 14 सीजन में अब तक राजस्थान रॉयल्स की टीम ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज स्पिनर शेन वार्न की कप्तानी में सिर्फ 1 बार आईपीएल का खिताब जीत पाई है. हालांकि राजस्थान के नाम आईपीएल के पहले सीजन का खिताब जीतने का रिकार्ड है. आईपीएल के पहले सीजन साल 2008 में राजस्थान ने चेन्नई सुपर किंग्स को हराकर यह रिकार्ड अपने नाम किया था.

Ipl 2022 Retention : Rr ने इन 3 खिलाड़ियोें को किया रिटेन, लिस्ट से 2 बड़े खिलाड़ी का नाम गायब

वहीं, राजस्थान रॉयल्स के पिछले साल के प्रदर्शन पर नजर डाले तो उसका पिछला सीजन अन्य सीजन के मुकाबले बहुत ही खराब रहा था. राजस्थान ने पिछले सीजन संजू सैमसन की कप्तानी में खेलते हुए लीग के 14 मैचों में से सिर्फ 5 मैच ही जीत पाई थी और 10 अंको के साथ प्वाइंट्स टेबल में सातवें स्थान पर रही. इसके साथ ही राजस्थान का आईपीएल के 14वें सीजन ट्रॉफी जीतने का सपना अधूरा ही रह गया. खैर राजस्थान रॉयल्स आईपिएल के 15वें सीजन में इन सभी बातों को पिछे छोड़ते हुए आईपीएल 2022 को जीतकर अपने नाम आईपीएल का एक और खिताब दर्ज करना चाहेगी.

रोटेशन प्रणाली नियम

आपको बता दें कि ऑक्शन से पहले सभी पुरानी 8 टीमों को 4 खिलाड़ियों को रिटेन करने का मौका दिया गया है. तय नियम के मुताबिक हर फ्रेंचाइजी टीम से केवल 4 खिलाड़ियों को ही रिटेन कर सकती है. 30 नवंबर तक सभी फ्रेंचाइजियों को अपने रिटेन किए गए 4 खिलाड़ियों की लिस्ट आईपीएल गवर्निंग काउंसिल को सौंपनी है. तय नियम के अनुसार हर फ्रेंचाइजी 4 खिलाड़ी जिसमें 2 भारतीय 2 विदेशी या फीर 1 विदेशी और तीन भारतीय खिलाड़ियों को ही रिटेन कर सकती है.

यदि फ्रेंचाइजी 4 खिलाड़ियों को रिटेन करती है तो वह 42 करोड़ खर्च कर चार खिलाड़ियों को रिटेन कर सकती है.

पहले खिलाड़ी को रिटेन करने के लिए – 16 करोड़
दूसरे खिलाड़ी को रिटेन करने के लिए- 12 करोड़
तीसरे खिलाड़ी को रिटेन करने के लिए- 08 करोड़
चौथे खिलाड़ी को रिटेन करने के लिए- 06 करोड़

यदि कोई फ्रेंचाइजी सिर्फ 3 खिलाड़ियों को रिटेन करती है तो वह 33 करोड़ खर्च कर तीन खिलाड़ियों को रिटेन कर सकती है.

पहला खिलाड़ी- 15 करोड़
दूसरा खिलाड़ी- 11 करोड़
तीसरा खिलाड़ी- 07 करोड़

यदि फ्रेंचाइजी सिर्फ 2 खिलाड़ियों को रिटेन करती है तो वह 22 करोड़ खर्च कर दो खिलाड़ियों को रिटेन कर सकती है.

पहला खिलाड़ी – 14 करोड़
दूसरा खिलाड़ी- 10 करोड़

यदि कोई फ्रेंचाइजी सिर्फ 1 खिलाड़ी को रिटेन ही रिटेन करना चाहती है तो वह 14 करोड़ रुपये खर्च कर किसी कैप्ड खिलाड़ी को रिटेन कर सकती है. यदि कोई फ्रेंचाइजी सिर्फ 1 अनकैप्ड खिलाड़ी को रिटेन करती है तो वह 4 करोड़ रुपये में उसे रिटेन कर सकती है.

फ्रेंचाइजी के लिए कुल बजट 90 करोड़

बीसीसीआई ने पिछली नीलामी की तुलना में इस बार फ्रेंचाइजों के बजट में बढ़ोतरी की है. इस बार होने वाले मेगा ऑक्शन में हर फ्रेंचाइजी 90 करोड़ खर्च कर अपनी टीमें तैयार कर सकती हैं. इससे पहले फ्रेंचाइजी को सिर्फ 85 करोड़ में ही अपनी टीमों को तैयार करना पड़ता था.

इन 3 खिलाड़ियों को राजस्थान रॉयल्स ने किया रिटेन

1- संजू सैमसन – 14 करोड़

2- जोस बटलर-  10 करोड़

3- यशस्वी जायसवाल- 4 करोड़ ( अनकैप्ड )