Mustard Oil

Mustard Oil Price: पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों में आई रुकावट के बाद इसका असर अन्य समाग्रियों के साथ-साथ खाने और पीने की वस्तुओं पर भी देखने को मिल रहा है। जिसका असर खाने में इस्तेमाल होने वाले तेल पर भी हुआ है। हालांकि होली का त्योहार जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे लोगों के मन में एक बार फिर से खाद्य तेल की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर चिंता होने लगी है। बता दें कि खाने में ज्यादातर सरसों का तेल इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि अभी तक पिछले काफी समय से सरसों तेल के दाम (Mustard Oil Price) की गई कटौती आज भी बरकरार है।

जनता को मिली राहत की सांस

Mustard Oil

आपको बता दें कि, पिछले काफी समय से देश में जनता पर लगातार महंगाई की मार पड़ रही है। पेट्रोल-डीजल के दाम सातवें आसमान पर है, तो वहीं दूसरी तरफ अब रुस-यूक्रेन के बीच हो रही लड़ाई के चलते अतंररार्ष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार उछाल देखने को मिल रहा है। ऐसे में सरसों तेल की कीमतों को लेकर सामने आई राहत की खबर से लोगों की सांस में सांस आई है।

पिछले साल के मुकाबले इतने कम हुए दाम

Mustard-Oil Price

पिछले साल से ही सरसों तेल के साथ-साथ ही सोयाबीन, सूरजमुखी जैसे तेल के दाम सातवें आसमान पर थे। हालांकि नए साल की शुरुआत के साथ ही इनके बढ़ते दामों से लोगों को थोड़ी राहत दी गई थी। मालूम हो कि, साल 2021 में सरसों तेल की कीमत 200 रुपए के पार पहुंच गई थी, जो अब 30 से 40 रुपए तक की कटौती के बाद 165 रुपए प्रति लीटर के भाव पर बाजारों में बिक रहा है।

नई फसल की आवाक बढ़ी

Mustard Oil

आपको बता दें कि, साल 2021 में खानें के तेल की कीमत कम थी, लेकिन धीरे-धीरे जून महीने तक आते-आते सरसों तेल की कीमतें (Mustard Oil Price) 400 के पास पहुंच गई थी। हालांकि, साल 2022 के आने तक इसके दाम कम होकर 165 रुपए प्रति लीटर तक पहुंच गए हैं। जानकारी के मुताबिक, सरसों की नई फसल की आवक बढ़ने से एक बार फिर से सरसों तेल-तिलहन की कीमतों में गिरावट देखने को मिल रही है।