सरसों के तेल के गिरे रेट, चना कांटा, मसूर, मूंग के दाम में तेजी

मांग कमजोर होने से दिल्ली तेल-तिलहन बाजार में सोमवार को सरसों तेल-तिलहन और सोयाबीन तिलहन के भाव कमजोर रहे, जबकि मलेशिया एक्सचेंज में मजबूती का रुख होने के कारण सीपीओ और पामोलीन तेल की कीमतों में सुधार आया। बाकी तेल तिलहनों के भाव पूर्वस्तर पर ही बने रहे। वहीं, इंदौर के संयोगिता गंज अनाज मंडी में सोमवार को चना कांटा 50 रुपये, मसूर 50 रुपये और मूंग के भाव में 100 रुपये प्रति क्विंटल की तेजी रही।

सरसों की इस बार पैदावार दोगुने से भी अधिक होने की उम्मीद

सूत्रों ने कहा कि तेल संगठन मोपा (मस्टर्ड आयल प्रोसेसिंग एसोसिएशन) और मरुधर ट्रेडिंग कंपनी ने एक आकलन में बताया है कि सरसों का मात्र 18.5 लाख टन का स्टॉक बचा है, जो पिछले महीने 30.5 लाख टन था।  तेल विशेषज्ञों का मानना है कि सरसों की अगली फसल आने में कम से कम पांच महीने की देर है। इस बीच त्योहारों और जाड़े की मांग बढ़ेगी और सरकारी खरीद एजेसियों के पास सरसों का कोई स्टॉक भी नहीं है। इस स्थिति की पुनरावृत्ति न हो इसके लिए आगे से सरकार को सरसों का स्टॉक स्थायी तौर पर बना कर रखने के बारे में विचार करना चाहिये क्योंकि सरसों की फसल 10-12 साल तक खराब नहीं होती है। सूत्रों कहा कि सरसों का कोई विकल्प नहीं है। इसकी अगली बिजाई अक्टूबर-नवंबर में होगी और इस बार पैदावार दोगुने से भी काफी अधिक होने की संभावना है।

 नवरात्र के दिनों में बढ़ सकती है मांग 

मलेशिया एक्सचेंज में 1.8 प्रतिशत की मजबूती थी, जबकि शिकॉगो एक्सचेंज में फिलहाल आधा प्रतिशत का सुधार है। मलेशिया एक्सचेंज में इस गिरावट का असर सीपीओ और पामोलीन तेल कीमतों पर भी दिखाई दिया। सूत्रों ने कहा कि नवरात्र के दिनों में मांग फिर से बढ़ सकती है। फिलहाल श्राद्ध के दिनों में कम लिवाली हो रही ह्रै। सूत्रों ने बताया कि मंडियों में सोमवार को साढ़े तीन लाख बोरी सोयाबीन की आवक हुई। अधिकतर प्लांट वाले सीधा मंडियों से सोयाबीन की खरीद कर रहे हैं। प्लांट पर डिलीवरी काफी कमजोर है जबकि उम्मीद है कि कुछ प्लांट वाले नवरात्र पर अपनी खरीद शुरू करेंगे। उन्होंने कहा कि विदेशों में तेजी होने के बावजूद स्थानीय स्तर पर मांग कमजोर है।

दिल्ली मंडी में थोक भाव इस प्रकार रहे-  (भाव- रुपये प्रति क्विंटल)

  • सरसों तिलहन – 8,725 – 8,750  (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपये।
  •      मूंगफली – 6,250 –  6,395 रुपये।
  •      मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात)- 14,280 रुपये।
  •      मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 2,140 – 2,270 रुपये प्रति टिन।
  •      सरसों तेल दादरी- 17,680 रुपये प्रति क्विंटल।
  •      सरसों पक्की घानी- 2,680 -2,730 रुपये प्रति टिन।
  •      सरसों कच्ची घानी- 2,765 – 2,875 रुपये प्रति टिन।
  •      तिल तेल मिल डिलिवरी – 15,500 – 18,000 रुपये।
  •      सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 14,350 रुपये।
  •      सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 13,960 रुपये।
  •      सोयाबीन तेल डीगम, कांडला- 12,850
  •      सीपीओ एक्स-कांडला- 11,500 रुपये।
  •      बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा)- 13,600 रुपये।
  •      पामोलिन आरबीडी, दिल्ली-  13,150 रुपये।
  •      पामोलिन एक्स- कांडला- 12,070  (बिना जीएसटी के)।
  •      सोयाबीन दाना 5,250 – 5,500, सोयाबीन लूज 5,000 – 5,100 रुपये।
  •      मक्का खल (सरिस्का) 3,800 रुपये।दौर में चना कांटा, मसूर, मूंग के भाव में तेजी     दलहन
    • चना (कांटा) 5375 से 5400,
    • मसूर 7350 से 7400,
    • तुअर (अरहर) निमाड़ी 5500 से 6400, तुअर सफेद (महाराष्ट्र) 6700 से 6800, तुअर (कर्नाटक) 6900 से 7000,
    • मूंग 6800 से 7100, मूंग हल्की 6100 से 6500,
    • उड़द 7100 से 7200, उड़द नया 5000 से 6000, उड़द हल्की 5500 से 6500 रुपये प्रति क्विंटल।दाल
      • तुअर (अरहर) दाल सवा नंबर 8700 से 8800,
      • तुअर दाल फूल 8900 से 9100,
      • तुअर दाल बोल्ड 9200 से 9600,
      • आयातित तुअर दाल 8500 से 8600,
      • चना दाल 6050 से 6650,
      • मसूर दाल 8350 से 8650,
      • मूंग दाल 7750 से 8050,
      • मूंग मोगर 8600 से 8900,
      • उड़द दाल 9100 से 9400,
      • उड़द मोगर 9900 से 10400 रुपये प्रति क्विंटल।चावल
        • बासमती (921) 9000 से 9500,
        • तिबार 7500 से 8000,
        • दुबार 7000 से 7500,
        • मिनी दुबार 6000 से 6500,
        • मोगरा 4000 से 6000,
        • बासमती सैला 6000 से 7500,
        • कालीमूंछ 6800 से 7000
        • राजभोग 5800 से 6000,
        • दूबराज 3500 से 4000,
        • परमल 2500 से 2650,
        • हंसा सैला 2450 से 2650,
        • हंसा सफेद 2200 से 2400,
        • पोहा 3400 से 3900 रुपये प्रति क्विंटल।

        Read in App