Vegetables Price: दाल के बाद अब गरीबों की थाली से गायब होने वाली है सब्जी, अब ये हैं हरे सब्जियों के नये भाव

दाल, सरसों तेल की महंगाई अभी थमी भी नहीं थी कि सब्जी भी गरीबों की पहुंच से दूर होती नजर आ रही है। गरीबों के निवाले पर महंगाई का संकट बरकरार है। सौ से अधिक रुपये बिक रही दाल व 200 रुपये प्रति किग्रा बिक रहे तेल से दूरी बना चुके गरीब किसी तरह जीवन की गाड़ी खींच रहें हैं। सब्जी के भाव आसमान छूने लगे हैं। बीते दिनों हुए मूसलधार बारिश की वजह से निचले इलाके की सारी सब्जियां पानी में डूबकर नष्ट हो गईं। इसकी वजह से सब्जियों के दाम बढ़ गए हैं।

बारिश ने बिगाड़ा पूरा गणित

Vegetables Price: दाल के बाद अब गरीबों की थाली से गायब होने वाली है सब्जी, अब ये हैं हरे सब्जियों के नये भाव

सब्जी आढ़तियों का कहना है कि आगे भी भारी बारिश की संभावना है। ऐसे में जिन किसानों की थोड़ी बहुत सब्जी की खेती बची थी वह भी डूबने से बर्बाद होने के कगार पर हैं। बारिश के कारण अचानक सब्जियों के दाम में बढ़ोतरी होने के बाद मंडी में प्याज, आलू से लेकर हरी सब्जियों की कीमत दस से पंद्रह रुपये बढ़ गए हैं।

गरीबों की थाली से गायब होने वाली है सब्जी

Vegetables Price: दाल के बाद अब गरीबों की थाली से गायब होने वाली है सब्जी, अब ये हैं हरे सब्जियों के नये भाव

बारिश से गांव में जलजमाव है। सब्जियों के लिए खेतों में बारिश का पानी रुकने के कारण वह नष्ट हो रही हैं। इसकी वजह से सब्जियों के दाम में भी बेतहाशा वृद्धि हुई है। बाजारों में बैगन करेला, भिडी, नेनुआ, सरपूतिया, कटहल आदि सब्जियों के दामों में काफी वृद्धि हो गई है। इस बाबत पूछे जाने पर सब्जी मंडी के विक्रेता मुन्नू, नसीम, शबान अहमद, अवधेश यादव का कहना है कि पूर्व में हुई कई दिन बारिश से खेतों में पानी लग गया है। सब्जियों की पैदावार न होने के कारण कीमतों में बेतहाशा वृद्धि हुई है।