Why-Are-Truck-Drivers-Protesting-Against-The-New-Hit-And-Run-Law

Hit And Run: यूपी, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात सहित तमाम राज्यों के ट्रक ड्राइवर और ट्रांसपोर्ट ऑपरेटर सड़कों पर उतर आए हैं। वजह है ‘हिट एंड रन’ (Hit And Run) पर लाया जा रहा नया कानून। केंद्र सरकार के कड़े नियमों के खिलाफ ट्रांसपोर्ट्स हड़ताल पर आ गए हैं। नए नियम में 10 साल कैद और 7 लाख जुर्माने की सजा का प्रावधान है। सरकार के इस नए नियम से ट्रक ड्राइवर गुस्से में हैं। कानून के विरोध में देश के कई राज्यों में ड्राइवरों ने चक्काजाम करना शुरू कर दिया है। सख्त प्रावधान के जरिये सरकार की मंषा सड़क हादसों पर अंकुश लगाना है। वहीं ड्राइवरों को लगता है कि यह उनके साथ ज्यादती है। क्या है ये पूरा कानून? हिट एंड रन के किस क्लॉज को लेकर ड्राइवरों में नाराजगी है,चलिए आपको बताते है इसके बारे में।

क्या है Hit And Run का नया कानून?

Hit And Run
Hit And Run

संसद से पारित और कानून बनी भारतीय न्याय संहिता में ‘हिट एंड रन’ (Hit And Run) में लापरवाही से मौत में विशेष प्रावधान किए गए हैं। कानून के अनुसार अगर ड्राइवर के तेज और लापरवाही से गाड़ी चलाने से किसी की मौत होती है और वह पुलिस या मजिस्ट्रेट को जानकारी दिए बिना भाग जाता है तो उसे 10 साल तक कैद और 7 लाख रुपये जुर्माना लगेगा। ये कानून सभी प्रकार यानी दोपहिया से कार, ट्रक, टैंकर जैसे सभी वाहन चालकों पर लागू होता है। मौजूदा कानून के मुताबिक केस आईपीसी की धारा 279 में ड्राइवर की पहचान के बाद 304ए और 338 के तहत दर्ज किया जाता है। इसमें दो साल की सजा का प्रावधान है।

हिट एंड रन के नए कानून का ड्राइवर क्यों कर रहे विरोध?

Hit And Run
Hit And Run

‘हिट एंड रन’ (Hit And Run) मामले के नये कानून को लेकर ड्राइवरों का कहना है कि अगर वे मौके पर रहे तो उन्हें भीड़ के गुस्से का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने संसद में कहा था कि उन चालकों के प्रति नरमी बरती जाएगी जो पुलिस को सूचना देंगे और घायल को अस्पताल ले जाएंगे। वहीं ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के अध्यक्ष अमृतलाल मदान ने कहा कि संशोधन से पहले स्टेक होल्डर्स से राय नहीं ली गई। देश में एक्सीडेंट इन्वेस्टिगेशन प्रोटोकॉल का अभाव है। पुलिस बिना जांच दोष बड़े वाहन पर मढ़ देती है। ट्रक ड्राइवर मोटर व्हीकल एक्ट में संशोधन की मांग कर रहे हैं। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस की परिवहन समिति के अध्यक्ष सीएस मुकाती ने कहा, हिट एंड रन के मामलों में सरकार द्वारा अचानक पेश किए गए कड़े प्रावधानों को लेकर चालकों में आक्रोश है और उनकी मांग है कि इन प्रावधानों को वापस लिया जाए।

इन राज्यों में सड़कों पर उतरे ड्राइवर

Hit And Run
Hit And Run

उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, बिहार, मध्य प्रदेश, गुजरात सहित देशभर के ज्यादातर राज्यों के ट्रक और बस ड्राइवर नए कानून के विरोध में सड़क पर उतर आए हैं। इसका परिवहन सेवाओं के साथ सप्लाई चेन पर असर पड़ सकता है। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस की परिवहन समिति के अध्यक्ष का कहना है किस ‘हिट एंड रन’ (Hit And Run) मामलों में अचानक पेश किए गए कड़े प्रावधानों को लेकर चालकों में आक्रोश है। उनकी मांग है कि इन प्रावधानों को वापस लिया जाए। वहीं चश्मदीदों ने बताया कि मुबई को आगरा से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग पर धार और शाजापुर जिलों में चालकों ने चक्काजाम किया। इससे सैकड़ो वाहनों की लंबी कतारें लग गईं।

ये भी पढ़ें: टीम इंडिया के पांच ऐसे खिलाड़ी जिन पर दर्ज है आपराधिक मामले, लिस्ट में एमएस धोनी के खास दोस्त का नाम भी है शामिल

विराट कोहली ने नए साल 2024 पर कर दिखाया वो कारनामा, जो क्रिकेट दुनिया में नहीं कर सका कोई खिलाड़ी

"