Vegetables Price

Today Vegetables Price : पेट्रोल और डीजल के दामों में आई गिरावट का सब्जियों के दाम (Vegetables Price) पर कोई असर नहीं पड़ा है. मंडियों में सब्जियों के भाव लगातार चढ़ और उतर रहे हैं. दिवाली के मौके पर सस्ती हुई सब्जियों से अभी तक लोगों ने राहत की सांस भी नहीं ली थी, कि मंडियों में एक बार फिर से सब्जियों के दाम आसमान छूने लगे. सब्जियां महंगी होने से एक बार फिर लोगों के किचन का बजट गड़बड़ा गया है. आइए जानते हैं सब्जियों के ताजा भाव.

ये हैं सब्जियों के नए दाम

Today Vegetables Price : सब्जियों के दाम ने बढ़ाई सरगर्मी, जानिए क्या है अब सब्जियों की नई कीमत
मंडियों में कटहल इस समय 80 रुपये प्रतिकिलो बिक रहा है. वहीं, फूल गोभी 80 रुपये हरी मिर्च 100 रुपये, भिंडी 45 रुपये, पत्ता गोभी 60 रुपये, पालक 60 रुपये, करेला 60 रुपये, बैंगन 40 से 50 रुपये, परवल,70 से 80 रुपये, बोड़ा 40 रुपये, नया आलू 50 और पुराना आलू 30 रुपये, सरसो साग 40 रुपये मूली 30 से 40 रुपये, शिमला मिर्च 120 रुपये, प्याज 50 और मेथी का साग 60, टमाटर 80 से 85 रुपये, नेनुआ 35 से 40 रुपये किलो बिक रहा है.

थाली से दूर हो रही हरी सब्जियां

Today Vegetables Price : सब्जियों के दाम ने बढ़ाई सरगर्मी, जानिए क्या है अब सब्जियों की नई कीमत

सब्जियां खाना सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है. खास करके हरी सब्जियों में ऐसे कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो आपके हेल्दी रखने में काफी मदद करते हैं. एक्सपर्ट्स की माने तो हरी सब्जी आपके दिल को स्वसथ रखने के साथ-साथ आपके वजन को कम और इम्युनिटी को स्ट्रॉन्ग करने में भी मदद करता है. लेकिन जिस हिसाब से हर रोज सब्जियों के दाम (Vegetables Price) बढ़ते जा रहे हैं. वैसे-वैसे लोगों की थाली से हरी सब्जियां दूर होती जा रही हैं.

इस वजह से बढ़े हैं सब्जियों के दाम

Today Vegetables Price : सब्जियों के दाम ने बढ़ाई सरगर्मी, जानिए क्या है अब सब्जियों की नई कीमत
सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि वैसे तो इस समय सब्जियों की कीमत कम ही रहती हैं, लेकिन पिछले कुछ दिनों से मंडी में लोकल सब्जियों की सप्लाई में कमी आई है. इस वजह से सब्जियों के दाम (Vegetables Price) में बढ़ोतरी की गई है. वहीं, सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि अभी सब्जियों के नई फसल को मंडियों में पहुंचने में 10 से 15 दिनों का और समय लग सकता है. तब तक सब्जियों के दाम में कमी की कोई उम्मीद नहीं दिख रही है.