Ruturaj Gaikwad

विजय हजारे ट्रॉफी Vijay Hazare Trophy में महाराष्ट्र के कप्तान और युवा बल्लेबाज ऋतुराज गायकवाड़ Ruturaj Gaikwad ने अपने शानदार परफॉर्मेंस को लेकर बड़ी प्रतिक्रिया दी है. ऋतुराज गायकवाड़ Ruturaj Gaikwad ने कहा कि भले ही उन्होंने टूर्नामेंट में काफी रन बनाए हों, लेकिन उनकी टीम टूर्नामेंट में बनी रहती तो ज्यादा अच्छा होता. बता दें कि महाराष्ट्र की टीम टूर्नामेंट में नॉकआउट मुकाबले से बाहर हो चुकी है.

परफॉर्मेंस को लेकर कही ये बात

Ruturaj Gaikwad
टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन के बाद टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान ऋतुराज गायकवाड़ Ruturaj Gaikwad ने अपनी परफॉर्मेंस को लेकर कहा कि- मेरी इस सफलता का कोई राज नहीं है. मैं केवल अपने प्रोसेस पर फोकस कर रहा हूं और ज्यादा नहीं सोच रहा हूं. हालांकि अगर हमारी टीम टूर्नामेंट में आगे खेलती तो मुझे अपने इस परफॉर्मेंस से ज्यादा खुशी होती. उन्होंने आगे कहा कि व्यक्तिगत तौर पर ये एक बड़ी उपलब्धि है. मुझे अपने और अपनी टीम पर गर्व है.”

5 मैचों में लगाया 4 शतक

Ruturaj Gaikwad
बता दें कि ऋतुराज गायकवाड़ Ruturaj Gaikwad ने विजय हजारे ट्रॉफी में लगातार शानदार बल्लेबाजी की. इस दौरान उन्होंने कई बड़ी पारियां खेलते हुए अपनी टीम को अपने दम पर कई मैच जिताए. ऋतुराज गायकवाड़ Ruturaj Gaikwad ने टूर्नामेंट में 5 मैचों में बल्लेबाजी करते हुए 4 शतक लगाया था. इस दौरान गायकवाड़ ने 150.75 की शानदार औसत  के साथ कुल 603 रन बनाए थे. जिसमें नाबाद 168 रन उनका सर्वोच्च स्कोर रहा. लेकिन इसके बावजूद महाराष्ट्र की टीम अपने ग्रुप में तीसरे पायदान पर रही और उसे रन रेट के आधार पर टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा.

आईपीएल 2021 में हासिल किया था ऑरेंज कैप

Ruturaj Gaikwad
आईपीएल में धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स CSK की ओर से खेलते हुए ऋतुराज गायकवाड़ Ruturaj Gaikwad ने पिछले सीजन में कमाल की बल्लेबाजी की थी. गायकवाड़ ने आईपीएल 2021 में खेले गए कुल 16 मैचों में शानदार प्रदर्शन करते हुए 136.26 की स्ट्राइक रेट से कुल 635 रन बनाए थे. वहीं, चौके और छक्के की बात करे तो ऋतुराज Ruturaj Gaikwad ने कुल 64 चौके और 23 छक्के लगाए थे. बता दें कि पिछले सीजन में ही ऋतुराज ने अपने आईपीएल करियर का पहला शतक और 6 अर्धशतक भी लगाया था. गायकवाड़ ने सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने के साथ ऑरेंज कैप पर भी कब्जा जमाया था.