/

‘बुलाती है मगर जाने का नहीं… इंटरनेट पर धड़ल्ले से VIRAL हो रहे राहत इंदौरी के ये 5 शेर

आज के दौर के शायर और गाीतकार राहत इंदौरी का इंतकाल हो गया। जिसके बाद लोग उनकी मग़फिरत के लिए दुआएं मांग रहे हैं।हर कोई उनकी शायरी के जरिए उनकों याद कर रहा था। उनका ये वाला शेर सोशल मीडिया पर काफी

/

“जिंदा रहने का अरमान भी नहीं होता” ये था राहत इंदौरी का अंतिम शायरी

उर्दू शायरी के बादशाह राहत इंदौरी इस दुनिया से रुखसत हो गए हैं। कोरोनावायरस और हार्ट अटैक से हुई उनकी मौत ने लोगों को झंझोर कर रख दिया। उन्होंने अपने जीवन में ऐसे मुकाम हासिल किए जो लोगों के सपनों में ही

/

‘किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है’ कुछ यूं किया था राहत इंदौरी ने CAA का विरोध

इंदौर– ”किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है”, राहत इंदौरी की ये लाइन नागरिकता संशोधन कानून और भारतीय नागरिक रजिस्टर के विरोध में प्रदर्शकारियों के लिए बुलंद आवाज बनी। सीएए-एनआरसी के विरोध प्रदर्शन के दौरान राहत इंदौरी की इस शायरी ने खूब

/

राहत इंदौरी का निधन,ट्वीट कर लिखा था- ‘दुआ कीजिए इस बिमारी को हरा दूं’

नामचीन शायर और गीतकार राहत इंदौरी का निधन हो गया है। मंगलवार को राहत इंदौरी ने ट्वीट किया था कि- कोविड के शुरूआती सिम्टम्स दिखाई देने पर कल मेरा कोरोना टेस्ट किया गया, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। ऑरबिंद अस्पताल में एडमिट