कानपुर एनकाउंटर: CO मिश्रा की बेटी ने पिता को अंतिम विदाई देते हुए कहा- “गुंडों को वहीं भेजूंगी जहां से उनका वास्ता हैं”

ज़ब छोटी थी तो एक बार उसे डॉक्टर-डॉक्टर खेलता हुआ देख कर पिता ने सोच लिया कि अपनी दुलारी बिटिया को डॉक्टर ही बनाएंगे. बड़े होने पर बिटिया ने भी अपने पिता की भावनाओं को खूब समझा और डॉक्टर बनने की मन