//

फ्रेंडशिप डे स्पेशल: पुराणों की वो दोस्तियां जिनकी आज भी दी जाती है मिशाल

सुदामा और कृष्ण की जोड़ी दोस्ती की मिशाल है। कृष्ण और सुदामा आचार्य संदीपन के आश्रम में साथ-साथ पढ़ते थे। सुदामा सादगी से परिपूर्ण थे। सुदामा का यह व्यवहार ने कृष्ण को प्रभावित किया। फिर दोनों बहुत अच्छे दोस्त बन गए। शिक्षा