चुनावी मैदान में आमने-सामने हैं ससुर-दामाद, देवरानी-जेठानी
/

बिहार चुनाव 2020 : चुनावी मैदान में इस बार आमने-सामने हैं ससुर-दामाद, समधी-समधन और देवरानी-जेठानी

बिहार: बिहार में विधानसभा चुनाव के मतदान में काफी कम समय शेष बचा है। वहीं चुनाव में जहां एक तरफ भाईचारा है, तो दूसरी तरफ कई रिश्तेदार भी इस कड़ी में ताल ठोक रहे हैं। इस बार कई देवरानी-जेठानी, भावज-भैसुर और ससुर-दामाद मैदान में हैं। बता दें कि, भोजपुर जिले की संदेश सीट पर भावज का मुकाबला जेठ से होगा।

वहीं राजद से अरुण यादव की पत्नी किरण यादव चुनावी मैदान में उतरी हैं, तो अरुण यादव के बड़े भाई विजेंद्र यादव यहां जदयू से हैं। वहीं शाहपुर सीट पर भी देवरानी और जेठानी एक-दूसरे को आमने-सामने चुनौती दे रही हैं।

इमामगंज से पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी चुनावी मैदान में हैं, तो वहीं उनके दामाद देवेंद्र मांझी हम के टिकट पर मखदुमपुर व समधन ज्योती देवी बाराचट्टी से चुनाव लड़ेंगी। इसके अलावा मधेपुरा के आलमनगर से नीतीश सरकार के विधि मंत्री नरेंद्र नारायण यादव और उनके दामाद निखिल मंडल मधेपुरा से जदयू के उम्मीदवार हैं।

एक ही परिवार के कई-कई उम्मीदवार मैदान में

पूर्व मंत्री चंद्रिका राय परसा से जदयू के टिकट पर मैदान में चुनाव के लिए खड़ी हैं। तो वहीं, दामाद तेज प्रताप यादव हसनपुर से राजद उम्मीदवार हैं।

जदयू के कौशल यादव नवादा सीट पर मैदान में खड़े हैं, तो गोविंदपुर से उनकी पत्नी पूर्णिमा देवी चुनाव लड़ रही हैं। वहीं उनके चचेरे भाई सुनील कुमार जदयू के टिकट पर ओबरा से  चुनावी मैदान में हैं।

लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटे भी मैदान में

इसके अलावा एक और चचेरे भाई भीम यादव गोह से चुनाव के  मैदान में हैं। रुपौली में नीतीश सरकार की मंत्री बीमा भारती जदयू के टिकट पर चुनाव लड़ने के लिए तैयार है, तो उनके पति अवधेश मंडल भी चुनाव में उतरने की पूरी तैयारी में हैं।

वहीं मोकामा में बाहुबली अनंत सिंह राजद के टिकट पर चुनावी जंग के लिए तैयार हैं, तो उनकी पत्नी नीलम सिंह ने भी निर्दलीय पर्चा भर दिया है। बताते चलें कि, राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटे तेजस्वी और तेजप्रताप यादव भी चुनावी मैदान में खड़े हैं।