किसान आंदोलन: दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पर खालसा ऐड ने खोला शॉपिंग मॉल, मिलेंगी मुफ्त सामान

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन को एक महीने पूरे हो गए हैं और किसान दिल्ली की तमाम सीमाओं पर टिके हुए हैं. इस बीच दिल्ली के टीकरी बॉर्डर पर मौजूद किसानों की दिक्कतों को देखते हुए गैर-सरकारी संगठन खालसा ऐड  ने एक किसान मॉल की स्थापना की है.

इन सामान की होगी भरमार

किसान आंदोलन: दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पर खालसा ऐड ने खोला शॉपिंग मॉल, मिलेंगी मुफ्त सामान

खालसा ऐड द्वारा स्थापित किसान मॉल में किसानों के दैनिक उपयोग से लेकर महिलाओं की जरूरत के सभी सामान मिलते हैं. खालसा ऐड के सदस्य और स्टोर मैनेजर गुरचरण ने बताया है कि किसान मॉल में टूथब्रश, टूथपेस्ट, साबुन, तेल, शैम्पू, वैसलीन, कंघी, मफलर, हीटिंग पैड, घुटने के कैप, थर्मल सूट, शॉल और कंबल के साथ अन्य कई सामान मिलते हैं.

स्टोर मैनेजर गुरचरण ने बताया, ‘हम स्वयंसेवकों की मदद से किसानों को एक टोकन जारी करते हैं, जिससे वे किसान मॉल से कोई भी सामान खरीद सकते हैं. हम हर दिन 500 से अधिक टोकन वितरित करते हैं.’ मॉल के प्रबंधक ने बताया, ‘हमने चीजों की एक लिस्ट लगाई है और खालसा ऐड के स्वयंसेवक किसानों की जरूरत के हिसाब से सामान उपलब्ध कराते हैं.’

मुफ्त में होगी सेवा

किसान आंदोलन: दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पर खालसा ऐड ने खोला शॉपिंग मॉल, मिलेंगी मुफ्त सामान

स्टोर मैनेजर गुरचरण ने बताया कि किसान मॉल में उपलब्ध सभी सामान मुफ्त में मुहैया कराए जाते है. उन्होंने बताया कि दरअसल यह व्यवस्था किसानों के जरुरत को देखते हुए की गई है, ताकि एक ही जगह उन्हें सभी सामान मिल सकें और उन्हें कहीं भटकना नहीं पड़े.

एक महीने से चल रहा है किसानों का आंदोलन

किसान आंदोलन: दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पर खालसा ऐड ने खोला शॉपिंग मॉल, मिलेंगी मुफ्त सामान

बता दें कि कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन करीबन एक महीने से जारी है और किसान लगातार कानूनों की वापसी की मांग पर अड़े हैं. हालांकि इस दौरान किसान और सरकार के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन अब तक कोई नतीजा नहीं निकला है.

आंदोलन कर रहे किसानों ने स्पष्ट ऐलान किया है कि वो संशोधन नहीं चाहते और कृषि कानूनों की वापसी के बगैर चर्चा संभव नहीं है. इसके साथ ही किसानों की मांग है कि सरकार एमएसपी पर कानून बनाए. वहीं दूसरी ओर सरकार ये बताने की कोशिश में है कि नए कानून किसानों के हित में है और ज्यादातर किसान इसे समझते भी हैं.

Shukla Divyanka

मेरा नाम दिव्यांका शुक्ला है। मैं hindnow वेब साइट पर कंटेट राइटर के पद पर कार्यरत...