ऋषि कपूर से था अमिताभ बच्चन का 36 का आंकड़ा, जानिए कैसे उन्हें पछाड़ बने सदी के महानायक

नई दिल्ली:फिल्मी दुनिया के महानायक 78 साल के हो गए. सदी के महानायक अमिताभ बच्चन अपनी आवाज के जादू से दुनियाभर के फैन्स को दीवाना बना देते हैं. उन्होंने अपनी एक्टिंग से हर उम्र के फैन में अपनी एक अलग ही छाप छोड़ी है. इसलिए तो इतनी उम्र में भी अमिताभ बच्चन अपने काम से आराम लेने को बिल्कुल भी तैयार नहीं है. इनकी जिंदगी में इतनी कहानियां हैं कि उनके करीबी और खुद अमिताभ बच्चन शेयर करतेकरते थक जाते हैं, ऐसे में नई पीढ़ी इस बात पर भी हैरानी जताती है कि उनके मम्मी, पापा, दादा आदि उम्र के लोग अमिताभ बच्चन के इतने बड़े वाले फैन क्यों है आइए आज हम इनकी जिन्दगी से जुड़ी कुछ बाते आपको बताते है.

1969 में मिला पहला ब्रेक

ऋषि कपूर से था अमिताभ बच्चन का 36 का आंकड़ा, जानिए कैसे उन्हें पछाड़ बने सदी के महानायक

1969 में अमिताभ बच्चन जब कोलकाता में अपनी नौकरी छोड़कर मुंबई आ गए तो अपना पोर्टफोलियो लेकर भटकने लगे. उस वक्त ख्वाजा अहमद अब्बास एक मूवी बना रहे थे सात हिंदुस्तानी‘, गोवा मुक्ति संग्राम के आठ साल बाद वो उसके बैकड्रॉप में एक मूवी बनाना चाहते थे. जिसके लिए उन्होंने अपनी कास्टिंग पूरी भी कर ली थी कि अचानक टीनू आनंद ने अपना रोल करने से मना कर दिया. क्योकि वो सत्यजीत रे के साथ बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर डायरेक्शन की बारीकियां सीखना चाहते थे, जिसके लिए उन्होंने अब्बास साहब की मूवी में काम करने से मना कर दिया. इस मूवी में टीनू के साथ मॉडल नीना सिंह लीड एक्ट्रेस थीं, नीना और टीनू ने उस रोल के लिए अमिताभ बच्चन का फोटो अब्बास साहब को दिखाया. इसके बाद15 फरवरी 1969 को अमिताभ बच्चन का उस रोल के लिए ऑडीशन लिया गया और उनको उस मूवी में एक रोल मिल गया.

ऋषि कपूर से था अमिताभ बच्चन का 36 का आंकड़ा, जानिए कैसे उन्हें पछाड़ बने सदी के महानायक

 

हालांकि बाद में जब अब्बास साहब को ये पता चला कि अमिताभ बच्चन हरिवंश राय बच्चन के बेटे हैं तो उन्हें हैरत हुई थी. उधर नीना भी दिल्ली से वापस नहीं लौटी तो उनकी जगह शहनाज को साइन कर लिया गया. इस मूवी में जो जिस बैकग्राउंड या धर्म का था, उसे उसके जस्ट अपोजिट रोल दिया गया था. डायरेक्टर अब्बास ये दिखाना चाहते थे कि कैसे अलगअलग प्रांतों और अलगअलग धर्मों के लोगों ने गोवा मुक्ति संग्राम में हिस्सा लिया था. अमिताभ बच्चन एक हिंदू कवि के बेटे थे तो उनको एक मुस्लिम कवि का रोल दिया गया, और मूवी में वो बिहारी बने थे बच्चन के करेक्टर का नाम अनवर अली था, जो कॉमेडियन महमूद के उस भाई का असली नाम था, जो बच्चन का दोस्त भी था और उस मूवी में काम भी कर रहा था. इसी तरह मूवी में बंगाली उत्पल दत्त को पंजाबी जोगेन्द्र का रोल दिया था. मलयालम एक्टर मधु को एक बंगाली का रोल दिया गया. मुस्लिम एक्टर इरशाद को महाराष्ट्रियन हिंदू, जलाला आगा को साउथ इंडियन हिंदू और अनवर अली को यूपी के कट्टर हिंदू रामभगत शर्मा का रोल दिया गया. जबकि मुस्लिम एक्ट्रेस शहनाज को एक क्रिश्चियन लेडी मारिया का रोल दिया गया था.

अमिताभ बच्चन के करियर की शुरुआती 12 फिल्में फ्लॉप

ऋषि कपूर से था अमिताभ बच्चन का 36 का आंकड़ा, जानिए कैसे उन्हें पछाड़ बने सदी के महानायक

आपको बता दें कि अमिताभ बच्चन के करियर की शुरुआती 12 फिल्में फ्लॉप थीं. इससे आप अंदाज लगा सकते हैं कि एक बड़े आदमी का बेटा होने के बावजूद उनकी जिंदगी में कितना स्ट्रगल था. पहले वो इंजीनियर बनना चाहते थे फिर एयरफोर्स उनकी पहली पसंद बन गई. लेकिन दोनों ही सपने पूरे नहीं हो पाए. उनकी जो जॉब कोलकाता में लगी, उसमें सेलरी थी पांच सौ रुपए, जिसमें से कटके करीब 460 रुपए मिलते थे. कंपनी का नाम था ‘Bird & Co Limited’, जो एक शिपिंग और फ्रेट ब्रोकर कंपनी थी. अमिताभ कोलकाता में जॉब की तलाश में 1962 में आए थे और करीब सातआठ साल यहां रुके. उनको पहली फिल्म सात हिंदुस्तानीटीनू आनंद के रोल छोड़ने की वजह से मिली, तो एक रेशमा और शेराके बारे में कहा जाता है कि उसमें एक गूंगे का रोल सुनील दत्त ने उन्हें इसलिए दे दिया क्योंकि नरगिस को इंदिरा गांधी ने बच्चन के लिए एक सिफारिशी लैटर लिखा था. बच्चन को एक बार ऑल इंडिया रेडियो ने भी रिजेक्ट कर दिया था, उन्हें वो आवाज पसंद नहीं आई, उनकी फिल्म जंजीरसुपरहिट हुई. टीवी पर केबीसी करने से पहले वो अपने बिजनेस में भी फेल हो चुके थे, बंगले तक गिरवी रख दिए गए थे. ऐसे में बच्चन के जीवन से सीखा जा सकता है कि रिजेक्शन का असर अपने काम या प्रयासों पर ना पड़ने दें.

अमिताभ, के लिए काका से भीड़ गई जया

ऋषि कपूर से था अमिताभ बच्चन का 36 का आंकड़ा, जानिए कैसे उन्हें पछाड़ बने सदी के महानायक

ये वो दौर था जब काका की एक के बाद एक 17 फिल्में सुपरहिट हो गई थीं, लगातार बिना ब्रेक के. मीडिया ने उन्हें बॉलीवुड का पहला सुपरस्टार घोषित कर दिया था. ऐसे में ऋषिकेश मुखर्जी ने अमिताभ को मौका दिया काका के साथ. ‘आनंदके नायक काका थे और सहनायक बिग बी. फिर आई नमक हराम‘, इसमें दोनों का रोल टक्कर का था. काका को बिग बी से परेशानी होने लगी. ‘बावर्चीमूवी के सेट पर जया बच्चन ने इसे भांप लिया था. दिलचस्प बात ये थी कि ऋषिकेश मुखर्जी ने इस मूवी में भी अमिताभ को शामिल कर लिया था, एक सूत्रधार के तौर पर केवल उनकी आवाज को. जब अमिताभ, जया को लेने सेट पर आते तो काका उनको बिलकुल भाव ना देते, वो केवल जया से बात करते थे. जया को ये लगातार अखर रहा था. एक दिन सेट पर जैसे ही अमिताभ बच्चन, जया से मिलने पहुंचे तो राजेश खन्ना ने कोई कमेंट ऐसे किया कि अमिताभ ना सुन पाएं, लेकिन जया ने सुन लिया. बॉलीवुड में चर्चा थी कि काका ने कहा था, ‘आ गया ..हूस.’ हालांकि इसकी किसी ने कभी पुष्टि नहीं की. लेकिन जया एकदम से भड़क गईं, और गुस्से में राजेश खन्ना से बोलीं, ‘देखना एक दिन ये आदमी कितना बड़ा स्टार होगा और जो आदमी खुद को खुदा समझता है, वो कहीं का नहीं रहेगा‘. बाद में हुआ क्या, ये आप सभी जानते हैं.

रात के दो बजे स्मिता पाटिल किया फोन

ऋषि कपूर से था अमिताभ बच्चन का 36 का आंकड़ा, जानिए कैसे उन्हें पछाड़ बने सदी के महानायक

आपको बता दें कि जब बच्चन कुली की शूटिंग बेंगलुरु में कर रहे थे, वहीं एक होटल में रुके हुए थे. रात के दो बजे की बात है कि रिसेप्शन से फोन आया कि स्मिता पाटिल आपसे अभी बात करना चाहती हैं. स्मिता पाटिल का ऐसे वक्त फोन अमिताभ के लिए हैरतअंगेज था. उन्हें लगा कि जरूर कोई सीरियस बात होगी, वरना स्मिता उन्हें इतनी देर रात फोन ना करतीं. बिग बी ने बात की, लाइन पर आते ही स्मिता ने पूछा कि तुम ठीक हो, कुछ हुआ तो नहीं? जब बच्चन ने बता दिया कि वो बिलकुल ठीक हैं, आराम कर रहे हैं, कुछ नहीं हुआ है. तब स्मिता पाटिल ने राहत की सांस ली और कहा कि मैंने सपने में देखा कि आप एक बुरे हादसे का शिकार हो गए हैं, सो मुझे चिंता लगी. अमिताभ ने स्मिता को समझा दिया और फिर दोनों ही सो गए. लेकिन अमिताभ को भान भी नहीं हुआ कि स्मिता का फोन किसी बड़े खतरे की वार्निंग थी. अगले ही दिन पुनीत इस्सर के साथ एक एक्शन सीन करते वक्त बुरी तरह घायल हो गए. तभी वो आज तक सपने वाली बात को याद करते हैं.

ऋषि कपूर को नहीं पसंद थे बिग बी

ऋषि कपूर से था अमिताभ बच्चन का 36 का आंकड़ा, जानिए कैसे उन्हें पछाड़ बने सदी के महानायक

बिग बी से खराब रिश्तों के पीछे ऋषि कपूर एक घटना को जिम्मेदार मानते थे. उनके मुताबिक इसकी एक वजह ये भी थी कि बच्चन को पता चल गया था कि ऋषि ने एक फिल्म अवॉर्ड खरीदा था. दरअसल जंजीरऔर बॉबीएक ही साल में रिलीज हुई थीं, बेस्ट फिल्म का अवॉर्ड ऋषि कपूर की बतौर हीरो डेब्यू मूवी बॉबीको गया. उसके लिए ऋषि ने अपने सेक्रेट्री या पीआरओ के जरिए तीस हजार रुपए दिए थे, ये बात बच्चन को पता भी चल गई थी. लेकिन ऋषि ने बायोग्राफी में अपनी नादान उम्र को इसके लिए दोषी ठहराया है. ऋषि के मुताबिक अमर अकबर एंथनीमें काम करने के दौरान उन दोनों के बीच दोस्ती हो गई. बाद में अमिताभ की बेटी की शादी उनकी बहन के बेटे यानी भांजे निखिल नंदा से हो गई. हाल ही में दोनों ‘102 नॉट आउटमें बाप बेटे के रोल में नजर भी आए थे.

My name is supriya .i am from ballia. I have done my mass communication from govt. polytechnic lucknow.in my family, there are 5 members including me.My mother house maker.my strengths are self confidence,willing...

Leave a comment

Your email address will not be published.