बॉलीवुड में अपना बड़ा नाम कमाने वाले ये सितारें, जिंदगी के अंतिम दिनों में हो गए थे पाई-पाई को मोहताज

80 के दशक में अपने हुनर से लोगो का मनोरंजन करने वाले कई Bollywood सितारों की अंतिम जिंदगी के पल एक आम इंसान की जिंदगी की तरह ही गुजरे जिसकी तंगहाली में वो इस दुनिया को छोड़ गए. हालांकि, हफसोस की बात ये है कि इसमें से कुछ नाम ऐसे कलाकारों के भी शामिल रहे जो एक जमाने में आलिशान जिंदगी जिया करते थे.

लेकिन कुदरत ने उनके अंतिम दिनों की करवट तंगहाली के दिनों कटाई, इस आर्टिकल में हम Bollywood के कुछ ऐसे ही सितारों के बारे में बात करने वाले जिनके लिए जिंदगी के अंतिम दिन काफी आर्थिक तंगी के गुजरे थे. तो आईए जानते हैं..

गीती कपूर – हस्पताल में छोड़ भागा था बेटा

बॉलीवुड में अपना बड़ा नाम कमाने वाले ये सितारें, जिंदगी के अंतिम दिनों में हो गए थे पाई-पाई को मोहताज

‘पाकीजा’ जैसी लोकप्रिय फिल्म का हिस्सा रह चुकीं Bollywood अभिनेत्री गीता कपूर के अंतिम दिन काफी बदहाली में गुजरे इसकी बड़ी वजह रही कि उन्हें अपने आखिरी समय में परिवार का सहारा नहीं मिला. आपको बता दें कि, एक बार अस्पताल में इलाज के दौरान उनका कोरियोग्राफर बेटा उन्हें छोड़कर भाग गया था, जिसके बाद उनका Bollywood के कुछ लोगों ने उनके इलाज का खर्चा उठाया, लेकिन इस तंगहाली में गीता कपूर 26 मई, 2018 को अंतिम सांस ली.

भारत भूषण— कर्ज में डूब हो गए पाई-पाई को मोहताज

बॉलीवुड में अपना बड़ा नाम कमाने वाले ये सितारें, जिंदगी के अंतिम दिनों में हो गए थे पाई-पाई को मोहताज

हिन्दी सिनेमा के दिग्गज कलाकार रह चुके भारत भूषण ने जिंदगी के अंतिम दिन काफी आर्थिक तंगी के साथ गुजारे और इस वजह से पूरे तौर पर उन्हें इलाज मिल पाना भी मुमकिन न हो पाया और 27 जनवरी, 1992 को उनका निधन हो गया. भुषण कुमार ने बतौर Bollywood कलाकार कालिदास, तानसेन, कबीर, मिर्जा गालिब और बैजू बावरा जैसे किरदार निभाए. हालांकि, प्रोड्यूसर बनने के बाद उनकी एक के बाद एक फिल्म फ्लोप होती गई जिसके बाद वो धीरे-धीरे पैसो की तंगहाली में आते गए कि एक वक्त ऐसा आया जब वो पाई-पाई की मोहताजी में दुनिया छोड़ गए.

एके हंगल— किराए के मकान में रहे, नहीं मांगी किसी से मदद

बॉलीवुड में अपना बड़ा नाम कमाने वाले ये सितारें, जिंदगी के अंतिम दिनों में हो गए थे पाई-पाई को मोहताज

Bollywood के मशहूर कलाकार रह चुके एके हंगल को आज भी उनकी ‘बावर्ची’ और ‘शोले’ जैसी सुपर हिट फिल्मों में एक अलग अदाकारी के लिए जाना जाता है. आज भी कई मिमिक्री आर्टिस्ट उनकी मिमिक्री करना बहुत पसंद करते हैं. हालांकि इतनी सफलता के बावजूद उनके जीवन के अंतिम दिनों में ऐसी नौबत आई कि वे आर्थिक तंगी के कारण किराए के घर में रहने लगे, लेकिन इसमें मदद के लिए हंगल ने कभी किसी के आगे हाथ नहीं फैलायऔर 26, अगस्त, 2012 को 98 साल की उम्र में वे दुनिया को अलविदा कह गए.

विम्मी – ठेले पर बॉडी रख ले जाना पड़ा श्मशान

बॉलीवुड में अपना बड़ा नाम कमाने वाले ये सितारें, जिंदगी के अंतिम दिनों में हो गए थे पाई-पाई को मोहताज

विम्मी ने जितनी जल्दी कामयाबी का स्वाद चखा, उतनी ही जल्दी उनका करियर खत्म हो गया, उनकी पहली ही फिल्म ‘हमराज’ इतनी पॉपुलर हुई कि कई फिल्मों के प्रस्ताव आए, सुनील दत्त के साथ की गई उनकी इस फिल्म के गाने भी लोगों की जुबान पर चढ़े रहे, लेकिन इसके अलावा उनकी वैवाहिक जिंदगी काफी परेशानी भरी रही जिस नजह से उन्हें नशे की बुरी लत तक गई थी.

दरअसल, विम्मी ने शादी के कुछ साल अपने पति को छोड़ दिया था. जिसके बाद अकेलेपन में विम्मी को नशे की लत पड़ गई और इसी वजह से उनकी लिवर की समस्या के चलते 22 अगस्त, 1977 को हो गई.