राजनेता अब सुशांत को नहीं बनाएंगे बिहार चुनाव में पोस्टर बॉय
//

राजनीतिक दल सुशांत को नहीं बनाएंगे बिहार चुनाव में पोस्टर बॉय, जाने वजह

चुनाव आयोग द्वारा इलेक्शन की तिथियां घोषित करने के बाद बिहार में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजनीतिक पार्टियों ने अपनी पैतरेबाजी शुरू कर दी है।

मुम्बई- चुनाव आयोग द्वारा इलेक्शन की तिथियां घोषित करने के बाद बिहार में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजनीतिक पार्टियों ने अपनी पैतरेबाजी शुरू कर दी है। अब तक यह साफ हो गया था कि बिहार विधानसभा चुनाव में सुशांत सिंह राजपूत केस का मुद्दा हावी रहने वाला था। परंतु अभी तक एनसीबी की जांच में और फिल्म अभिनेत्रियों के कबूलनामे से सुशांत की छवि को खासा धक्का पहुंचा है। अब संभावना यही जताई जा रही है कि शायद ही कोई राजनीतिक दल सुशांत के नाम को चुनाव के दौरान प्रयोग करे। सारी राजनीतिक पार्टियां सुशांत के नाम लेने से कन्नी काट रही हैं।

अब तक हुए खुलासों से बनी नकारात्मक छवि

अब तक हुई सीबीआई – एनसीबी की जांच में और आरोपियों की जमानत याचिका की सुनवाई के दौरान कोर्ट में कई सनसनीखेज खुलासे हुए हैं। इस पूरे घटनाक्रम में सबसे ज्यादा नुकसान सुशांत सिंह राजपूत की छवि को हुआ है। अब तक के बयानों से ये बात बार बार सामने आ रही है कि सुशांत अपनी हीरोइनों को अपने फार्म हाउस पर ले जाते थे और वहां जमकर पार्टी हुआ करती थी और प्रतिबंधित ड्रग्स का सेवन भी हुआ करता था। एनसीबी की जांच में भी ये बातें आधिकारिक रूप से दर्ज हो चुकी हैं कि सुशांत शूटिंग के दौरान और पार्टियों में नशीले पदार्थों का सेवन करते थे।

बीजेपी ने किया था सुशांत के नाम का प्रयोग

फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का मुद्दा बिहार चुनाव की घोषणा से पहले ही उठने लगा था। बीजेपी ने दिवंगत फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत को चुनावी मुद्दा बनाने की रणनीति तैयार की थी। बीजेपी में कला संस्कृति प्रकोष्ठ के बिहार संयोजक वरुण कुमार सिंह ने सुशांत सिंह की तस्वीर साझा करते हुए कहा था कि ना भूले हैं, ना भूलने देंगे। तस्वीर के ऊपर जस्टिस फॉर सुशांत लिखा था।

आपको बता दें कि इससे पूर्व में शिवसेना आरोप भी लगा चुकी है कि बिहार चुनाव को देखते हुए सुशांत मामले को राजनीतिक रंग दिया जा रहा है।