बुरे फंसे अमिताभ हो सकती है जेल, हिन्दुओं की भावनाओं को आहत करने का लगा आरोप

बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन इन दिनों अपने शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ के 12वें  सीजन की शूटिंग में व्यस्त हैं. ये टीवी जगत के सबसे लोकप्रिय टीवी शोज में से एक है। शो को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। लखनऊ में अमिताभ बच्चन और KBC के मेकर्स के खिलाफ हिंदुओं की भावनाओं को चोट पहुंचाने के आरोप में केस दर्ज किया गया है। शो के एक एपिसोड के दौरान अंबेडकर और मनुस्मृति को लेकर पूछे गए सवाल पर ही बिग बी और KBC के मेकर्स पर यह कार्रवाई की गई है।

क्या हैं पूरा मामला

बुरे फंसे अमिताभ हो सकती है जेल, हिन्दुओं की भावनाओं को आहत करने का लगा आरोप

KBC के एक एपिसोड में सामाजिक कार्यकर्ता बेजवाड़ा विल्सन और एक्टर अनूप सोनी पार्टिसिपेंट के तौर पर शामिल हुए थे। उनसे 6.40 लाख रुपए के प्वाइंट पर सवाल किया गया था। सवाल था कि 25 दिसंबर 1927 को डॉ. अंबेडकर और उनके समर्थकों ने किस धार्मिक पुस्तक की कॉपियां जलाई थीं। इनके ऑप्शन दिए गए थे– A- विष्णु पुराण, B- भगवदगीता, C- ऋगवेद और D- मनुस्मृति।

इस सवाल का जवाब थामनुस्मृति

बुरे फंसे अमिताभ हो सकती है जेल, हिन्दुओं की भावनाओं को आहत करने का लगा आरोप

आपको बता दें कि इस सवाल का जवाब थामनुस्मृति। इसके बाद अमिताभ बच्चन ने दर्शकों को बताया कि डॉ. अंबेडकर ने जिस मनुस्मृति की निंदा की थी, उसकी कॉपियां 1927 में कैसे जलाई गईं। सोशल मीडिया पर इसका विरोध शुरू हो गया और यूजर्स ने कहा कि ये हिंदुओं की भावनाओं को चोट पहुंचाना है।

ऑप्शन में एक ही धर्म की किताब क्यों

बुरे फंसे अमिताभ हो सकती है जेल, हिन्दुओं की भावनाओं को आहत करने का लगा आरोप

इस एपिसोड के टेलीकास्ट होते ही विवेक रंजन अग्निहोत्री ने ट्वीट किया थाकेबीसी को कम्युनिस्ट ने हाईजैक कर लिया है। मासूम बच्चे यह सीखें कि कल्चरल वॉर कैसे जीतना है। इसे कोडिंग कहते हैं। विवेक के अलावा कई और यूजर्स भी इस पर सवाल पूछ रहे हैं। लोगों का आरोप है कि इस ऑप्शन में सिर्फ एक धर्म विशेष की पुस्तकों का जिक्र किया गया है। जो गलत है।

My name is supriya .i am from ballia. I have done my mass communication from govt. polytechnic lucknow.in my family, there are 5 members including me.My mother house maker.my strengths are self confidence,willing...

Leave a comment

Your email address will not be published.