कैलाश खेर ने संगीत के लिए छोड़ा था घर, आत्महत्या की कोशिश, फिर ऐसे पलट गयी जिंदगी

संगीत की दुनिया के दिग्गज भी उनकी आवाज के कायल हैं। कैलाश खेर एक अलग तरह की गायिकी के लिए जाने जाते हैं। कैलाश खेर के पिता कश्मीरी पंडित थे और लोक गीतों में उनकी काफी रुचि थी। जिसकी वजह से बचपन से ही कैलाश खेर को भी संगीत का जुनून चढ़ गया था। मेरठ में जन्मे कैलाश खेर ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया।

चार साल की उम्र से ही कैलाश खेर ने गाया गाना

कैलाश खेर ने संगीत के लिए छोड़ा था घर, आत्महत्या की कोशिश, फिर ऐसे पलट गयी जिंदगी

चार साल की उम्र से ही कैलाश खेर ने गाना शुरू कर दिया था। उन्होंने अपनी आवाज से सबको मोह लिया था। कैलाश खेर के पिता कार्यक्रमों में पारंपरिक गाने गाते थे। उन्हें फिल्मी गीत बिल्कुल पसंद नहीं थे जबकि कैलाश को बॉलीवुड के गानों से लगाव था।

जब उन्होंने गायकी को अपनी जिंदगी बनाने की ठानी तो उनके परिवार ने इसका विरोध किया लेकिन कैलाश भी कहां हार मानने वाले नहीं थे। उन्होंने 14 साल की छोटी उम्र में संगीत के लिए अपना घर छोड़ दिया था।

कैलाश ने गाने के लिए घर छोड़ा

कैलाश खेर ने संगीत के लिए छोड़ा था घर, आत्महत्या की कोशिश, फिर ऐसे पलट गयी जिंदगी

कैलाश घर छोड़ने के बाद दिल्ली पहुंचे। यहां उन्होंने संगीत की शिक्षा लेनी शुरू की। अब पैसे तो थे नहीं तो उन्होंने अपना खर्च निकालने के लिए बच्चों को संगीत का ट्यूशन देने का काम शुरू कर दिया। हर बच्चे से वे 150 रुपये फीस लेते थे और इसी से अपना खर्च निकालते थे।

कैलाश खेर के लिए रास्ता इतना भी आसान नहीं था। एक दौर ऐसा भी आया जब उन्हें उम्मीद की कोई किरण नजर नहीं आ रही थी। साल 1999 में उन्होंने अपने दोस्त के साथ हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्ट बिजनेस शुरू किया। कैलाश और उनके दोस्त को इसमें भारी नुकसान हुआ। जिसके बाद कैलाश ने आत्महत्या तक की कोशिश की थी।

जिंगल्स गाने से मिला मौका

कैलाश खेर ने संगीत के लिए छोड़ा था घर, आत्महत्या की कोशिश, फिर ऐसे पलट गयी जिंदगी

जब कैलाश को कोई रास्ता नहीं सूझा तो उन्होंने ऋषिकेश का रुख किया। वहां वह साधु संतों के बीच रहकर भजन गाया करते थे। यहीं से उनका विश्वास जागा और वे मुंबई पहुंचे। साल 2001 में कैलाश मुंबई पहुंचे यहां गुजारा करने के लिए उन्हें गायकी के जो ऑफर मिलते उसे तुरंत स्वीकार कर लेते।

कैलाश की जिंदगी में उम्मीद की किरण तब नजर आई जब वे संगीतकार राम संपत से मिले और उन्होंने कैलाश को एड में जिंगल्स गाने का मौका दिया। उन्होंने पेप्सी से लेकर कोका कोला जैसे बड़े ब्रान्ड्स के लिए जिंगल्स गाए।

कैलाश खेर की पत्नी हैं बेहद खुबसुरत

कैलाश खेर ने संगीत के लिए छोड़ा था घर, आत्महत्या की कोशिश, फिर ऐसे पलट गयी जिंदगी

कैलाश खेर की निजी जिंदगी के बारे में कम ही लोगों को पता है। बता दें कि साल 2009 में कैलाश खेर ने शीतल से शादी की। वह उनसे 11 साल छोटी हैं। दोनों का एक बेटा कबीर है।पत्नी शीतल के बारे में बात करते हुए कैलाश कहते हैं कि ‘हम दोनों अलग अलग दुनिया के प्राणी हैं। मैं संकोची किस्म का हूं जबकि वह मुंबई में पली बढ़ी मॉडर्न ख्यालों की हैं। एक कॉमन फ्रेंड के जरिए हमारी मुलाकात हुई थी। हमारे बीच एक समानता थी वह है संगीत। जिसने हमें जोड़ा।‘

 

Supriya Singh

My name is supriya .i am from ballia. I have done my mass communication from govt. polytechnic lucknow.in my family, there are 5 members including me.My mother house maker.my strengths are self confidence,willing...