Aryan Drug Case : आर्यन केस में हुआ बड़ा खुलासा, जानबूझकर आर्यन को फंसाने के लिए की गई थी क्रूज पर छापेमारी

Aryan Drug Case : ड्रग्स केस में इस समय एक बड़ा खुलासा सामने आया है. दरअसल मामले में अब एक और नया गवाह ने अपना बयान दर्ज कराया है, जिसने यह दावा किया है कि ड्रग्स केस में आर्यन खान को जानबूझकर फंसाया गया है. गवाह का कहना है कि मामले में आर्यन को फंसाकर उससे पैसे ऐंठने की कोशिस किया जा रहा था.

योजना के अनुसार हुई थी छापेमारी

Aryan Drug Case : आर्यन केस में हुआ बड़ा खुलासा, जानबूझकर आर्यन को फंसाने के लिए की गई थी क्रूज पर छापेमारी
आपको बता दें कि महाराष्ट्र के रहने वाले विजय पगारे नाम के व्यक्ति ने मुंबई पुलिस एसआईटी के सामने अपना बयान दर्ज कराया है. विजय पगारे ने कहा कि क्रूज पर छापेमारी (Aryan Drug Case) से पहले मनीष भानुशाली, सैम डिसूजा और केपी गोसावी सुनिल पाटिल से कई बार मिले थे. विजय पगारे ने कहा कि क्रूज छापेमारी के लिए 27 सितंबर को योजना बनाई गई थी. योजना के अनुसार क्रूज पर 2 अक्टूबर को छापेमारी की गई.

वकिलों से भी किया था संपर्क

Aryan Drug Case : आर्यन केस में हुआ बड़ा खुलासा, जानबूझकर आर्यन को फंसाने के लिए की गई थी क्रूज पर छापेमारी
पागरे ने बताया कि जब वह 3 अक्टूबर को एनसीबी ऑफिस के पास पहुंचा तो वहां पर जर्नलिस्टों की भीड़ लगी थी और पता चला कि आर्यन खान खान (Aryan Drug Case) को एनसीबी ने गिरफ्तार किया है. जिसके बाद मैने एक न्यूज क्लिप देखी जिसमें भानुशाली और गोसावी गिरफ्तार हुए आरोपियों के आसपास नजर आ रहे हैं. पागरे ने कहा कि इसके बाद उसे इस बात का एहसास हुआ कि यह छापेमारी योजना के अनुसार की गई है. पागरे ने यह भी दावा किया है कि भानुशाली और गोसावी ने आर्यन का केस लड़ रहे वकिलों से भी संपर्क करने का कोशिश किया था, लेकिन वे अपने इस मकसद में सफल नहीं हो पाए.

क्या है पूरा मामला?

Aryan Drug Case : आर्यन केस में हुआ बड़ा खुलासा, जानबूझकर आर्यन को फंसाने के लिए की गई थी क्रूज पर छापेमारी
आपको बता दें कि एनसीबी ने 2 अक्टूबर को मुंबई से गोवा जा रही एक क्रूज सीप पर चल रही रेड पार्टी पर रेड की थी, जिसमें एनसीबी ने ड्रग्स और नशीले पर्दार्थों का सेवन करने के आरोप में आठ लोगों को गिरफ्तार (Aryan Drug Case) किया था. गिरफ्तार आठ लोगों में बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान का बेटा आर्यन खान भी शामिल था. एनसीबी ने गिरफ्तार सभी लोगों से पूछताछ करने के बाद सभी को जेल में भेज दिया था. फिलहाल इस समय सभी आरोपी बॉम्बे हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद जेल से बाहर हैं.