गरीबो के मसीहा सोनू सूद मदद करने के बाद इस वजह से रखते हैं मजाकिया शर्त

कोरोना जैसी बड़ी महामारी के समय में सोनू सूद ही एक ऐसे हीरो थे, जिन्होंने गरीबों और असहाय लोगों की मदद की लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में उन्होंने बाहर फंसे लोगों को उनके घरों तक पहुंचाया और इस समय सुपर हीरो सोनू सूद एक बार फिर सबकी मदद करने के लिए तैयार हैं, लेकिन क्या आप जानते है सोनू सूद लोगो की मदद करने के लिए एक शर्त रखते है?

गरीबो के मसीहा सोनू सूद मदद करने के बाद इस वजह से रखते हैं मजाकिया शर्त

जी हां, आपको बता दें कि सोनू सूद की शर्त काफी मजाकिया होती है। इस समय सोनू सूद के पास हजारों की तादात में ट्वीट्स आते हैं औऱ उनकी टीम हर उस शख्स की जरूरतों को पूरा करती है, जिनको मदद की रियल में आवश्यकता होती है। सोनू सूद ने कुछ लोगों की मदद भी की।

पापकार्न बेचने वाले के बच्चे को दिया स्मार्ट फोन

गरीबो के मसीहा सोनू सूद मदद करने के बाद इस वजह से रखते हैं मजाकिया शर्त

अंजली ताज नाम की एक लड़की सोनू सूद को ट्वीट कर दिल्ली के एक गरीब लड़के की कहानी बताई, जो कि पापकार्न बेचने वाले का बच्चा था। वह बच्चा पढ़ना चाहता था, लेकिन ऑनलाइन पढ़ाई में स्मार्ट फोन की जरूरत थी , जोकि उनके पास नहीं था। सोनू सूद ने उस बच्चे को स्मार्टफोन ले कर दिया। स्मार्ट फोन के अलावा सोनू सूद ने उस बच्चे को पढ़ाई से संबधित कई अन्य वस्तुएं भी दिलाई। मदद के बाद सोनू ने एक शर्त रख दी की हैप्पी (बच्चा) उनको पापकार्न खिलाएगा। ट्वीट करने वाली अंजलि ने बच्चे के साथ सेल्फी लेकर अपनी खुशी जाहिर की।

ट्वीट से खबर मिलते ही सोनू ने की इनकी मदद

गरीबो के मसीहा सोनू सूद मदद करने के बाद इस वजह से रखते हैं मजाकिया शर्त

ये कहानी है धनबाद के अनूप कुमार वर्णवाल की, जो कि किड़नी की बीमारी से लडड रहे थे। इलाज के लिए उन्हें 28 लाख रुपए की जरूरत थी। अनूप के दोस्तों ने जैसे तैसे 14 लाख रुपए तो जोड़ लिए , लेकिन बाकी के पैसो के लिए उनको समझ ना आ रहा था कि क्या करें? तभी अनूप के दोस्तों ने ट्वीट के जरिए सोनू सूद से मदद मांगी।सोनू ने उनकी रुपयों से मदद की और अनूप का किड़नी ट्रांसप्लाट हैदराबाद के एक अस्पताल में हुआ। अनूप को किड़नी उनकी मां के द्वारा मिली।

दिल्ली के अस्पताल में कराया ऑपरेशन

गरीबो के मसीहा सोनू सूद मदद करने के बाद इस वजह से रखते हैं मजाकिया शर्त

ये कहानी दिल्ली में रहने वाले याकूब की है , जो पिछले 4 ,5 महीने से चलने फिरने में असमर्थ था। याकूब ने ट्वीट के जरिए सोनू से मदद मांगी। ट्वीट के जवाब में सोनू ने याकूब के नई दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में ऑपरेशन कराया। अब याकूब चल फिर सकते है।

लड़कियों को दिलाई नौकरी

गरीबो के मसीहा सोनू सूद मदद करने के बाद इस वजह से रखते हैं मजाकिया शर्त

धनबाद के कुछ लड़कियां लॉकडाउन के दौरान भी नौकरी पर जा रही थी। उनमें से एक लड़की ने सोनू सूद को ट्वीट कर नौकरी के लिए मदद मांगी। उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था कि सोनू सूद उनके ट्वीट का रिप्लाई देंगे। सोनू ने अपने जवाब में  कहा कि 50 दिन के अंदर धनबाद की ये लड़कियों के पास अच्छी नौकरी होगी….. यो मेरा वादा है।  सोनू के यह ट्वीट प्रवासी रोजगार के साथ था, जिसके तहत आज सोनू देशभर में सभी युवा पीढी को रोजगार दे रहे है।

Shukla Divyanka

मेरा नाम दिव्यांका शुक्ला है। मैं hindnow वेब साइट पर कंटेट राइटर के पद पर कार्यरत...

Leave a comment

Your email address will not be published.