सुशांत ने की है आत्महत्या या हुआ है हत्या, अब खुलेगा राज
/

सुशांत ने की है आत्महत्या या हुआ है हत्या, विसरा रिपोर्ट से सामने आएगी सच्चाई

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की अचानक हुई मौत के बाद उनका पोस्टमार्टम भी डॉक्टरों ने जल्दबाजी में किया था. 15 जून को यह शव परीक्षण कपूर अस्पताल में 5 डॉक्टरों के द्वारा किया गया था, जिसके बाद आई रिपोर्ट से डॉक्टरों ने यह दावा किया कि, सुशांत ने आत्महत्या की है. लेकिन सीबीआई की जांच के बाद यह मामला साफ नहीं हो पा रहा था कि, सुशांत ने सच में सुसाइड की है या फिर उनकी हत्या हुई है?

इस मामले में सीबीआई लगातार जांच में लगी हुई है. सीबीआई ने सुशांत के पोस्टमार्टम किए जाने वाले डॉक्टरों की टीम से भी बात की है. हर कोई अब सुशांत की मौत की असली वजह जानना चाहता है, और सुशांत को न्याय भी दिलाना चाहता है.

विसरा की रिपोर्ट आने के बाद सच्चाई आएगी सामने

CBI के द्वारा की गई पूछताछ और जांच से कुछ खास जानकारी नहीं मिल सकी, जिसके बाद सीबीआई ने विसरा के नमूने का परीक्षण करवाने के लिए प्रमुख फॉरेंसिक टीम के विशेषज्ञों से अनुरोध भी किया. विसरा एक बोतल में संरक्षित करके पुलिस को सौंप दिया गया था. विसरा में अग्नाशय, जिगर और आंत के अलावा शरीर के कई आंतरिक हिस्से शामिल होते हैं.

इस संरक्षित किए गए नमूने को परीक्षण के लिए फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला में सुरक्षित रख दिया गया था. सीबीआई के अनुरोध पर एम्स के डॉक्टरों ने सुशांत के विसरा की जांच करवाने के खास आदेश दिए, विसरा का परीक्षण एम्स के फोरेंसिक विभाग में किया गया. जिसकी रिपोर्ट भी अब आ चुकी है. इस रिपोर्ट को एम्स की टीम आज सीबीआई को सौंप देगी.

सुशांत केस में कई लोगों को यह भी शक था कि, सुशांत को स्लो प्वाइजन दिया जा रहा था. यह बात सच है या झूठ है इस बात से आज पर्दा उठ जाएगा, और सच्चाई सबके सामने आ सकती है. जी हां फॉरेंसिक टीम के हेड सुधीर गुप्ता ने सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु को लेकर कहा,

”विसरा रिपोर्ट आ चुकी है, इस रिपोर्ट से इस बात का पता लग जाएगा कि, सुशांत की मृत्यु की असली वजह क्या है? यह रिपोर्ट आज हम सीबीआई को सौंप देंगे. सुशांत के केस को लेकर हमने मेडिकल बोर्ड का गठन किया है, यह बोर्ड आज इस केस पर सीबीआई को अपनी राय पेश करेगा”.

सूत्रों की माने तो सुशांत की डेड बॉडी और उनकी विसरा को ढंग से संरक्षित करके नहीं रखा गया था. मेडिकल बोर्ड और मुंबई पुलिस की तरफ से इस लापरवाही के चलते आने वाली विसरा रिपोर्ट में बहुत कम जानकारी मिल सकेगी. फिलहाल फॉरेंसिक टीम के विशेषज्ञों ने सबूत के साथ छेड़छाड़ करने और लापरवाही बरतने के लिए कार्यवाही करने के आदेश दे दिए हैं.