कोई बेचता था अख़बार तो कोई था बस कंडक्टर, एक्टर बनने के पहले भूखे पेट सोते थे ये सितारे

बहुत खुशनसीब होते हैं वो लोग जो कड़ी मेहनत में रात-दिन तपकर सोना बनते हैं. वरना कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनकी मेहनत रंग नहीं लाती और वो धूप में बुरी तरह झुलस जाते हैं. ऐसी ही कहानी कुछ बॉलीवुड स्टार्स की भी हैं, जिनकी रियल लाइफ रील से कम नहीं लगती. आइए, हम आपको बताते हैं ऐसे स्टार सेलिब्रिटी के बारे में जो कभी धूप में जले थे, लेकिन आज फिल्मी दुनिया के चमचमाते सितारें हैं.

शाहरुख खान

कोई बेचता था अख़बार तो कोई था बस कंडक्टर, एक्टर बनने के पहले भूखे पेट सोते थे ये सितारे

हर दिल अजीज शाहरूख खान का नाम तो आज हर कोई जानता है, लेकिन उनके संघर्ष भरे दिनों को शायद ही कोई जानता हो. मास कम्युनिकेशन की पढ़ाई को बीच में ही छोड़कर शाहरुख महज 1500 रुपए लेकर मुंबई चले गए. पर आज इनकी पूरी मेहनत इन्हें सूत समेत वापस मिली है और अब शाहरुख़ को पूरी दुनिया में एक अहम पहचान मिली हुई है.

रजनीकांत

कोई बेचता था अख़बार तो कोई था बस कंडक्टर, एक्टर बनने के पहले भूखे पेट सोते थे ये सितारे

ऐसा कहा जाता है कि जोक्स भी उन्हीं पर बनते हैं जिन्हें लोग जानते हैं. रजनीकांत को साउथ के सुपरस्टार के रूप में देखा जाता है. आपको जानकर हैरानी होगी कि रजनीकांत ने कुली और बस कंडक्टर का काम भी किया था. इसके बाद काफी सालों तक कड़ी मेहनत करके रजनीकांत ने फिल्मों में कामयाबी पाई.

नवाजुद्दीन सिद्दकी

कोई बेचता था अख़बार तो कोई था बस कंडक्टर, एक्टर बनने के पहले भूखे पेट सोते थे ये सितारे

एक गरीब किसान परिवार में जन्में नवाजुद्दीन आठ भाई-बहन थे. उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव में जन्में नवाजुद्दीन के लिए फिल्मों का सफर इतना आसान नहीं था. उन्होंने अपने संघर्ष के दिनों में केमिस्ट शॉप पर काम करने के साथ चौकीदार की नौकरी तक की. वक्त बीतने के साथ नवाजुद्दीन को फिल्मों में ब्रेक मिला और आज वो बॉलीवुड में अपनी नई पहचान रखते हैं.

जॉनी लीवर

कोई बेचता था अख़बार तो कोई था बस कंडक्टर, एक्टर बनने के पहले भूखे पेट सोते थे ये सितारे

अपनी कॉमेडी और टाइमिंग के लिए पूरी फिल्म इंडस्ट्री में जाने जाने वाले अभिनेता जॉनी लीवर आज काफी बड़े अभिनेता बन चुके हैं. इन्हे अपने कमाल के एक्सप्रेशंस के लिए भी एक अलग पहचान मिली हुई है.आज जॉनी लीवर जहाँ एक शानोशौकत की जिंदगी जी रहे हैं वहीँ कभी ये अपने घर की आर्थिक स्थिति को दखते हुए स्कूल करने के बाद अखबार बेचने का काम करते थे.

मिथुन चक्रवर्ती

कोई बेचता था अख़बार तो कोई था बस कंडक्टर, एक्टर बनने के पहले भूखे पेट सोते थे ये सितारे

मिथुन चक्रवर्ती एक समय में खाने तक के मोहताज थे उन्होंने अपनी मेहनत और लगन से आज ये मुकाम हासिल किया है, जहां पर आज उन्हें लोग मिथुन दा के नाम से जानते है. मिथुन चक्रवर्ती आज फिल्मों से दूर हैं पर फिर भी आज इन्हें गजब की पॉपुलैरिटी मिली हुई है.

Shukla Divyanka

मेरा नाम दिव्यांका शुक्ला है। मैं hindnow वेब साइट पर कंटेट राइटर के पद पर कार्यरत...