किसानों के समर्थन में इस शिक्षक ने की पंजाब से दिल्ली तक की साइकिल यात्रा

सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ एक महीने से भी ज्यादा समय से किसान दिल्ली बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. किसानों का समर्थन करने के लिए किसानों के अलावा अन्य लोगों ने भी इस आंदोलन में हिस्सा लेना शुरू कर दिया है.किसानो का साथ देने के लिये एक सामान्य शिक्षक ने साइकिल पर सवार होकर पंजाब से दिल्ली का फासला तय किया.

सरकारी स्कूल के शिक्षक मनोज कुमार

किसानों के समर्थन में इस शिक्षक ने की पंजाब से दिल्ली तक की साइकिल यात्रा

किसानों का समर्थन करने के लिये देश के हर एक कोने से लोग दिल्ली पहुंच रहे हैं. साथ ही किसानो की मदद करने के लिये उन्हे खाने से लेकर हर तरह की चीजे पहुचायी जा रही है. इसी तरह किसानों का समर्थन करने के लिये पंजाब के संगरूर जिले के एक सरकारी स्कूल के शिक्षक मनोज कुमार 225 किलोमीटर साइकिल चलाकर सोमवार को टिकरी बॉर्डर पर पहुंचे. उन्होंने अन्य लोगों से भी किसान आंदोलन से जुड़ने की अपील की.

कृषि कानून “विनाशकारी” साबित होंगे

प्रधानमंत्री

मनोज कुमार ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि, “किसान पिछले तीन महीने से लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. दो महीने से पंजाब में और पिछले एक महीने से दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे हैं. मैं किसानों के समर्थन में हूं और उनके साथ एकजुटता निभाने के लिए 225 किलोमीटर साइकिल चलाकर पंजाब के संगरूर से दिल्ली तक आया हूं. अगर यह सभी कानूनों का पालन लागू किया जाएगा तो यह सभी कानून हमारे लिए “विनाशकारी” साबित होंगे.”

किसान आंदोलन में हिस्सा लेने की अपील

किसानों के समर्थन में इस शिक्षक ने की पंजाब से दिल्ली तक की साइकिल यात्रा

मनोज कुमार ने हमारे देश के लोगों से भी किसान आंदोलन में हिस्सा लेने की अपील की और कहा कि , “मैं सभी लोगों से अपील करता हूं कि हमें एक हो जाना चाहिए और किसानों की जीत के लिए इस आंदोलन का समर्थन करना चाहिए. यह आंदोलन एक जन हित आंदोलन है और अगर हमारे किसान हार गए तो देश भी हार जाएगा.”