बेटे के व्यवहार से दुखी किसान ने अपनी संपत्ति बेटे और बेटियों को छोड़ वफादार कुत्ते के नाम कर दी

मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा से बेहद हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। जहां पर एक बुजुर्ग किसान ने अपनी आधी संपत्ति बेटे और बेटियों को छोड़कर अपने पले हुए वफादार कुत्ते के नाम कर दी है। दरअसल छिंदवाड़ा के इस किसान की कहानी बेहद दुख भरी है। जिस वजह से उसे इस तरह का फैसला मजबूरी में लेना पड़ा। आइए जानते हैं, क्या है इस हैरान कर देने वाले फैसले के पीछे किस्सा?

बेटे के व्यवहार से दुखी किसान ने अपनी संपत्ति बेटे और बेटियों को छोड़ वफादार कुत्ते के नाम कर दी

बेटे के व्यवहार से हो गए थे दुखी

छिंदवाड़ा के बाड़ीबड़ा गांव के निवासी बुज़ुर्ग किसान के द्वारा लिए गए इस हैरान कर देने वाले फैसले के पीछे दर्द भरी कहानी यह है कि, उनका बेटा उनका बिल्कुल भी ख्याल नहीं रखता है। इतना ही नहीं वह उन्हें खाने पीने के लिए भी नहीं पूछता और ना ही कोई जिम्मेदारी समझता है।

बुजुर्ग किसान के साथ उनका बेटा मारपीट भी करता है। इस तरह से दुखी होकर उन्होंने अपनी आधी संपत्ति अपने वफादार कुत्ते के नाम पर कर दी। बची हुई आधी संपत्ति उन्होंने अपनी दूसरी पत्नी के नाम पर कर दी है।

बेटे के व्यवहार से दुखी किसान ने अपनी संपत्ति बेटे और बेटियों को छोड़ वफादार कुत्ते के नाम कर दी

वसीयत में लिखी गई ये बातें

बुजुर्ग किसान ओम नारायण ने अपनी वसीयत में जमीन जायदाद को लेकर साफ निर्णय ले लिया है। उन्होंने वसीयत में लिखा कि,

“मेरी सेवा पत्नी और मेरा पालतू कुत्ता ही करते हैं। मेरे जीते जी मेरे लिए मेरी पत्नी और कुत्ता सबसे ज्यादा प्रिय हैं। मेरे मर जाने के बाद में मेरी पूरी संपत्ति के हकदार मेरी पत्नी और कुत्ता ही होंगे। कुत्ते की सेवा करने वाले को ही इस जायदाद का अगला वारिस समझा जाएगा”।

बेटे के व्यवहार से दुखी किसान ने अपनी संपत्ति बेटे और बेटियों को छोड़ वफादार कुत्ते के नाम कर दी

बुजुर्ग किसान ने की दो शादियां

जानकारी के अनुसार, बुजुर्ग किसान ओम नारायण ने दो शादियां की है। पहली पत्नी से उनकी तीन बेटियां और एक बेटा भी हैं। वहीं दूसरी पत्नी से दो बेटियां हैं। आधी संपत्ति उन्होंने अपनी दूसरी पत्नी के नाम पर ही की है। किसान अपने पालतू कुत्ते से बहुत प्यार करते हैं। इस कारण उन्होंने अपनी वसीयत कुत्ते के नाम कर दी। उनका कहना है कि, जो भी उनके कुत्ते का ध्यान रखेगा, वहीं संपत्ति का हकदार भी होगा। बेटे और बेटियों के लिए यह बेहद चिंता का विषय बन गया है।

Urvashi Srivastava

मेरा नाम उर्वशी श्रीवास्तव है. मैं हिंद नाउ वेबसाइट पर कंटेंट राइटर के तौर पर...