कभी लाल बत्ती की गाड़ी से चलती थी ये महिला अब चरा रही बकरियां
/

कभी लाल बत्ती की गाड़ी से चलती थी ये महिला, अब चरा रही बकरियां

आज हम आपको ऐसी महिला के बारे में बताने वाले हैं, जो पहले राजा हुआ करती थी, लेकिन अब रंक बन गई है. कहा जाता है समय का सब खेल होता है कब समय पलट जाए किसी को कुछ पता नहीं समय का कुछ कहना नहीं ऐसा ही मामला मध्यप्रदेश के शिवपुर जिले में रहने वाली “जूली” नाम की महिला के साथ हुआ जो कभी बड़ी गाड़ियों में घूमती थी, लेकिन आज वह रोड पर पैदल नजर आती है.

ऐसे मजबूर हो गई जूली

दरअसल यह महिला मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले के बदरवास की रहने वाली जूली नामक पूर्व शिवपुरी की जिला अध्यक्ष रह चुकी है, लेकिन देखते ही देखते समय इस तरह से बदल गया कि कुछ कहना ही नहीं एक समय था जब जूली लाल बत्ती की गाड़ी में घूमती थी, लेकिन आज सड़कों पर बकरियां चराने को मजबूर हो गई है जूली सिर्फ अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए बकरियां चलाने के लिए जद्दोजहद करती हुई नजर आ रही है. एक समय था जब जूली से सब आदर सम्मान के साथ मैडम मैडम कहते थे किंतु आज एक ऐसा भी दौर है जब वे सड़कों पर बकरियां चलाते हुए नजर आ रही हैं आज इस बुरे वक्त में उसे कोई सीधे मुंह देखता भी नहीं है.

जूली को ऐसे मिला था ऊंचा दर्जा

जूली से पता चला कि साल 2005 में कोलारस के पूर्व विधायक राम सिंह यादव ने उन्हें जिला पंचायत सदस्य बनाया था. वह पंचायत सदस्य बनने से पहले मजदूरी का काम करती थी, इसके बाद जिला पंचायत के सदस्य बनने के बाद शिवपुरी के पूर्व विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने उन्हें सीधा जिला का पंचायत अध्यक्ष ही बनवा दिया 5 सालों की कार्यभार को संभालते हुए उन्हें ऊंचा दर्जा मिलने लगा. जिसके कारण सभी लोगों ने मैडम मैडम कह कर बुलाया करते थे उसके बाद उन्हें हार का सामना करना पड़ा, इसके कारण उन्हें पंचायत सदस्य निकाल दिया गया जिसके कारण उन्होंने मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण करना शुरू कर दिया है, लेकिन समय का खेल ऐसा पलटा हालात इतने खराब हूं कि लोग उन्हें पहचानने से भी कतराते हैं जिसके कारण आज वही जूली मैडम अपने परिवार के बड़ी पोषण के लिए बकरियां चरा रही हैं.