26 साल के इस प्रोफेसर ने बदल दी कई भिखारियों की जिंदगी, 572 को दी नौकरी तो 5000 से ज्यादा को दी जीने की नई उम्मीद

सड़कों के किनारे और गली मोहल्लों में भिखारियों को देखकर नाक भौं सिकोड़ने वाले लोग तो हजारों मिलेगें , लेकिन आज हम आपको एक ऐसे नौजवान के बारे में बताने जा रहे है, जिसने जानें कितने भिखारियों की जिंदगी को सवारां है. तमिलनाडु के तिरूचिरापल्ली जिले में मुसिरी के रहने वाले पी नवीन ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है और अपने संस्थान के श्रेष्ठ छात्र रहे हैं, लेकिन वह पिछले छह बरस से सिर्फ भिखारियों के कल्याण में लगे हैं.

स्थापित किया अत्चयम ट्रस्ट

26 साल के इस प्रोफेसर ने बदल दी कई भिखारियों की जिंदगी, 572 को दी नौकरी तो 5000 से ज्यादा को दी जीने की नई उम्मीद

नवीन ने 2014 में तीन लोगों के साथ एक गैर सरकारी संगठन ‘अत्चयम ट्रस्ट’ की स्थापना की थी. आज उनका यह ट्रस्ट तमिलनाडु के 18 जिलों तक फैल चुका है और 4300 से अधिक भिखारियों की काउंसलिंग करने के साथ ही 424 भिखारियों को एक नयी जिंदगी देकर उनका पुनर्वास कर चुका है. नवीन के सफर में आज 400 से ज्यादा स्वयं सेवकों का कारवां जुड़ चुका है.

2015 -16 के लिए राष्ट्रीय युवा पुरस्कार जीतने वाले नवीन को 2019 में मुख्यमंत्री के राज्य युवा पुरस्कार के लिए चुना गया. अपने काम के लिए कुल 40 से ज्यादा पुरस्कार हासिल करने वाले नवीन बताते हैं कि कई बार एक बेहतर जीवन ही नहीं बल्कि एक सम्मानित मृत्यु की चाह में भी लोग भिक्षावृत्ति छोड़ने का उनका परामर्श मान लेते हैं.

बताई एक कहानी

26 साल के इस प्रोफेसर ने बदल दी कई भिखारियों की जिंदगी, 572 को दी नौकरी तो 5000 से ज्यादा को दी जीने की नई उम्मीद

ऐसी ही एक घटना का जिक्र करते हुए नवीन ने बताया कि उन्होंने एक भिखारी का पुनर्वास करके उसे आश्रम में पहुंचाया. वह कुछ दिन तो आश्रम में रहा, लेकिन फिर कई कारणों से भिक्षावृत्ति के रास्ते पर वापस लौट गया. तकरीबन एक वर्ष बाद नवीन जब दोबारा उस व्यक्ति से मिले तो वह वृद्धाश्रम जाने के लिए तत्काल राजी हो गया.

26 साल के इस प्रोफेसर ने बदल दी कई भिखारियों की जिंदगी, 572 को दी नौकरी तो 5000 से ज्यादा को दी जीने की नई उम्मीद

पूछने पर उसने बताया कि पिछले दिनों उसका एक साथी भिखारी बीमारी के कारण सड़क किनारे लावारिस मर गया और उसके शव को भी कोई उठाने वाला नहीं था. वह खुद इस तरह की मौत नहीं मरना चाहता था, इसलिए वृद्धाश्रम जाने को तैयार हुआ.

नहीं देखा जाता था लोगों का दुख

26 साल के इस प्रोफेसर ने बदल दी कई भिखारियों की जिंदगी, 572 को दी नौकरी तो 5000 से ज्यादा को दी जीने की नई उम्मीद

नवीन ने बताया कि, “मैंने तब यह काम शुरू किया था, जब मैं इंजीनियरिंग कर रहा था. मेरे पास रात के खाने तक के पैसे सिर्फ ₹10 ही होते थे, मैंने खाना खाने के लिए सड़क किनारे इंस्टॉल देखा. उसी समय मेरी मुलाकात भिखारियों से भी हो जाया करती थी, कभी-कभी भिखारी पैसे के लिए मेरे पास आते और हम उन्हें खाना खरीद कर देते थे और खुद भूखे सो जाते थे”.

26 साल के इस प्रोफेसर ने बदल दी कई भिखारियों की जिंदगी, 572 को दी नौकरी तो 5000 से ज्यादा को दी जीने की नई उम्मीद

प्रोफेसर ने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर आचार्यम की स्थापना की और अपने वेतन, छोटे दान और ट्रस्ट के माध्यम से 18 जिलों में 400 स्वयं सेवकों की एक टीम के साथ 572 भिखारियों को पुनर्स्थापित किया. ऐसा वो इसलिए करते थे, क्योंकि उनसे उन गरीब असहाय लोगों को ऐसे देखा नहीं जाता था. वो चाहते थे कि उन गरीबों के लिए वो कुछ कर सके.

Shukla Divyanka

मेरा नाम दिव्यांका शुक्ला है। मैं hindnow वेब साइट पर कंटेट राइटर के पद पर कार्यरत...