बाबरी मस्जिद गिराने वाले सभी आरोपी बरी, भड़क उठी कांग्रेस
/

बाबरी मस्जिद गिराने वाले सभी आरोपी बरी, भड़क उठी कांग्रेस

बाबरी मस्जिद के विध्वंस मामले में विवादित ढांचा गिराए जाने के बाद अब कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है. इसमें पूरे 49 आरोपी थे, जिसमें से 17 लोगों की मौत भी हो चुकी है. इस मामले में लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, सतीश प्रधान, महंत गोपालदास और इसके अलावा कई आरोपियों को रिहा कर दिया गया है. यह मामला 6 दिसंबर 1992 को घटित हुआ था. इसके बाद इस पर काफी विवाद भी हुआ. आरोपियों के निर्दोष पाए जाने के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया है. अब इस मामले पर पक्ष और विपक्ष के नेता तंज कस रहे हैं.

 

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में लाल कृष्ण आडवाणी, श्री कल्याण सिंह, डॉ मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती समेत सभी लोगों को निर्दोष पाए जाने के बाद सभी को बरी कर दिया गया. इस मौके पर भाजपा के कई नेताओं ने उनका स्वागत किया है, और इस मामले में उन्होंने ट्वीट भी किया है.

भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया ट्वीट

बाबरी मस्जिद विध्वंस के मामले में निर्दोष पाए जाने पर रिहा किए जाने वालो के लिए भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने खुशी जताई है. उन्होंने न्याय मिलने पर सभी लोगों का स्वागत किया है. उनका मानना है कि, लाल कृष्ण आडवाणी, श्री कल्याण सिंह, डॉ मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती समेत सभी लोगों के साथ अन्याय किया गया था और उनके खिलाफ षडयंत्र रचा गया था.

 

राजनाथ सिंह जी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि , ” लखनऊ की विशेष अदालत में बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में लालकृष्ण आडवाणी, श्री कल्याण सिंह, डा. मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती सहित 32 लोगों में सभी को बाबरी मस्जिद के षड्यंत्र में निर्दोष पाया गया है. अदालत के इस फैसले का मैं स्वागत करता हूं देर से ही सही लेकिन न्याय हुआ”.

 

 

नेता यशपाल सिसोदिया ने किया ट्वीट

मध्यप्रदेश विधानसभा के सदस्य और नेता यशपाल सिसोदिया ने भी बाबरी मस्जिद विध्वंस केस के कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले पर ट्वीट किया. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि, ”बाबरी प्रकरण पर CBI कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला है. सभी आरोपियों को दोषमुक्त पाया गया. घटना पहले से नियोजित नहीं थी. यह अचानक हुई थी. ढांचा अराजक तत्वों द्वारा तोड़ा गया. यह 28 वर्षों के लंबे अंतराल के बाद फैसला आया है. यह फैसला पूरे 2300 पन्नों में किया गया. विचारधारा को बधाई!! सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं”.

 

 

28 साल बाद बाबरी मस्जिद केस में फैसला आने के बाद विपक्ष ने भी हमला बोलना शुरू कर दिया है. बाबरी मस्जिद के मामले में सभी आरोपियों को निर्दोष पाए जाने के बाद 32 आरोपियों को बरी कर दिया गया. लेकिन विपक्ष ने अब इस मामले पर लगातार हमला करना भी शुरू कर दिया.

कांग्रेस के नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए विपक्ष पर किया हमला

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने बाबरी मस्जिद मामले में ट्वीट किया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि, ”बाबरी मस्जिद केस में सभी दोषियों को बरी करने का विशेष अदालत का निर्णय बिल्कुल ही गलत है. यह फैसला सुप्रीम कोर्ट के निर्णय व संविधान की परिपाटी से बिल्कुल परे है. सुप्रीम कोर्ट की पांच न्यायाधीशों की खंडपीठ ने 9 नवंबर 2019 को निर्णय के मुताबिक बाबरी मस्जिद को गिराया जाना एक गैर कानूनी अपराध माना है”.

 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व कानून मंत्री मध्य प्रदेश शासन श्री पी सी शर्मा ने विपक्ष पर साधा निशाना

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व कानून मंत्री मध्य प्रदेश शासन श्री पी सी शर्मा जी ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले पर भाजपा सरकार पर निशाना साधा उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह जी को हिटलर शाही नीति करने की बात कही है. जिस पर विपक्ष ने जवाब भी दिया.

 

 

यशपाल सिसोदिया ने कहा, मध्यप्रदेश शासन श्री पी सी शर्मा जी को माफी मांगनी चाहिए.

बाबरी विध्वंस मामले में नेता यशपाल सिसोदिया ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व कानून मंत्री मध्य प्रदेश शासन श्री पी सी शर्मा जी की प्रतिक्रिया का जवाब दिया. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे” बाबरी विध्वंस मामले में फैसला आ जाने के बाद सी पी सी शर्मा जी की प्रतिक्रिया मोदी जी और शाह जी की हिटलर शाही को नीति करार देना बहुत ही गलत और दुर्भाग्यपूर्ण है. श्री पी सी शर्मा जी को माफी मांगनी चाहिए , ये कोर्ट की अवमानना करना है”.