पुलिस फोर्स के Sniffer Dogs में से एक होनहार सिपाही रॉकी की मौत, सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई

पुलिस फोर्स में एक से एक बड़े सिपाही होते हैं जो हमारी जिंदगी में बढ़ते अपराधों को सुलझाने के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. कई बड़े बड़े अपराधियों को पकड़ने और उन तक पहुंचने के लिए यह सिपाही पूरे देश पूरी जी जान से अपनी ड्यूटी निभाते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि, पुलिस फोर्स में Sniffer Dogs भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण और बड़े सिपाही होते हैं. यह डॉग्स कई बड़े अपराधियों को पकड़ने और मामले को सुलझाने के लिए अपने चार पैरों से कितने ही बड़े-बड़े काम करते हैं और देश की सेवा भी करते हैं.

पुलिस फोर्स के Sniffer Dogs में से एक होनहार सिपाही रॉकी की मौत, सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई

ऐसा ही होनहार और वफादार डॉग महाराष्ट्र की पुलिस के पास भी था, जो अपनी जिंदगी में लगभग 365 केसों को सुलझा चुका था। इस वफादार डॉग का नाम है रॉकी! रॉकी अपनी वफादारी के चलते देश की सेवा में हमेशा तत्पर रहता था. रॉकी बहुत ही समय से बीमारी से पीड़ित था, लेकिन फिर भी वह देश सेवा में हमेशा वफादारी से काम करता रहा. कुछ ही दिन पहले रॉकी ने अपनी लंबी बीमारी के चलते आखिरी सांस ली. जिसके बाद मुंबई पुलिस ने रॉकी को पूरे सम्मान के साथ विदा किया.

मुंबई पुलिस ने रॉकी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर भी साझा की है. सोशल मीडिया पर तस्वीरें साझा करते हुए उन्होंने बताया कि, ”रॉकी काफी समय से एक भयंकर बीमारी से पीड़ित था, जिसकी वजह से करीब 4:00 बजे रॉकी अपने एक साथी के साथ मृत अवस्था में मिला”. उन्होंने बताया कि, ”रॉकी ने पुलिस को 365 केस को सुलझाने में बहुत ही सहायता की थी, हम सबको रॉकी के चले जाने का बहुत ही दुख है. रॉकी को अंतिम विदाई बहुत ही सम्मान के साथ दी गई, हम सब उसे बहुत याद करेंगे”.

पुलिस फोर्स के Sniffer Dogs में से एक होनहार सिपाही रॉकी की मौत, सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई

 

365 केस सुलझाने वाले रॉकी को खो देने का दुख पुलिस को बहुत ही है, पुलिस ने साहसी और वफादार रॉकी को देश की सेवा करने और पुलिस का साथ देने के लिए अंतिम बार विदाई के समय उसे शुक्रिया अदा किया.

पुलिस फोर्स के Sniffer Dogs में से एक होनहार सिपाही रॉकी की मौत, सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई

 

सिपाही रॉकी के सम्मान में यह कविता

इंसानों का जिस्म हासिल कर जानवरों से पेश आते हैं
कुछ इंसान इस ज़मीं पर बोझ हो जाते हैं,

कोई जानवरों के जिस्म मे रूह फरिश्तों की लेकर आता है
जानवर होकर फ़र्ज़ इंसानों के निभाता है. जय हिन्द

PAYAL SRI ‘ATAL’

Urvashi Srivastava

मेरा नाम उर्वशी श्रीवास्तव है. मैं हिंद नाउ वेबसाइट पर कंटेंट राइटर के तौर पर...

Leave a comment

Your email address will not be published.