कोरोना काल में कोई भूखा न सोए इसीलिए इस शख्स ने खोला राइस एटीएम, लोगों की लगती है लंबी लाइन

कोरोना वायरस के कारण देश में काफी भुखमरी फैल चुकी है, जिस समय लॉकडाउन था उस  समय अमीर लोगों ने तो अपने घरों में खूब राशन भर कर आगे के लिए सुरक्षा बना ली, लेकिन जो गरीब लोग थे वो बिचारे दाने दाने को इधर से उधर भटक रहे थे। उन लोगों के दर्द को हैदराबाद के एक युवक ने देखा भी और महसूस भी किया, जिसके चलते उस युवक ने इन गरीबों की मदद करने  के लिए राइस एटीएम खोला, जिससे उन लोगो  को भूखे ना सोना पड़े।

24 घंटे चलता है एटीएम

कोरोना काल में कोई भूखा न सोए इसीलिए इस शख्स ने खोला राइस एटीएम, लोगों की लगती है लंबी लाइन

हैदराबाद के रामू डोसापटी, गरीबों के लिए राइस एटीएम यानी चावल का एटीएम चलाते हैं। यह एटीएम गरीब और बेसहारा लोगों को जरूरी चीजें उपलब्‍ध कराता है। सूत्रों के अनुसार रामू डोसापटी का राइस एटीएम दिन के 24 घंटे चलता है।

कोरोना काल में कोई भूखा न सोए इसीलिए इस शख्स ने खोला राइस एटीएम, लोगों की लगती है लंबी लाइन

गरीब और बेसहारा लोग इसके जरिये जरूरत का राशन कभी भी ले सकते हैं। रामू लोगों को यह सुविधा भी देते हैं कि अगर उनके पास कुछ खाने को नहीं है तो वह एलबी नगर में उनके घर आकर राशन का सामान ले जा सकते हैं।

कोरोना काल में कोई भूखा न सोए इसीलिए इस शख्स ने खोला राइस एटीएम, लोगों की लगती है लंबी लाइन

लॉकडाउन के दौरान से ही रामू डोसापटी, लोगों को राशन बांट रहे हैं। उन्‍हें यह काम करते-करते बहुत  दिन हो चुके हैं। उन्‍हें लोगों को राशन बांटने के लिए अब अन्‍य लोगों की मदद भी मिलने लगी है।

5 लाख रुपए कर चुके हैं खर्च

कोरोना काल में कोई भूखा न सोए इसीलिए इस शख्स ने खोला राइस एटीएम, लोगों की लगती है लंबी लाइन

जानकारी के मुताबिक रामू अब तक अपनी जेब से 5 लाख रुपये खर्च करके करीब 15 हजार लोगों की मदद कर चुके हैं। रामू एमबीए से ग्रैजुएशन किए हुए हैं और एक सॉफ्टवेयर फर्म में एचआर मैनेजर हैं।

कोरोना काल में कोई भूखा न सोए इसीलिए इस शख्स ने खोला राइस एटीएम, लोगों की लगती है लंबी लाइन

रामू ने बताया कि  एक बार उन्होंने देखा कि एक सिक्योरिटी गार्ड कुछ भूखे मजदूरों की हेल्प करने के लिए दो लाख रुपए खर्च कर देता है। तब उन्हें एहसास हुआ कि यदि महीने के 6 हजार कमाने वाला इंसान भी लोगों की मदद कर सकता यही तो मेरे जैसे महीने के एक लाख कमाने वाले को तो और ज्यादा मदद करना चाहिए। घर बैठ सिर्फ अपने परिवार की नहीं सोचना चाहिए।

Shukla Divyanka

मेरा नाम दिव्यांका शुक्ला है। मैं hindnow वेब साइट पर कंटेट राइटर के पद पर कार्यरत...