ईरान का दुस्साहस, राफेल के ठिकाने के पास दागी मिसाइलें
/

ईरान का दुस्साहस, राफेल के ठिकाने के पास दागी मिसाइलें, भारतीय पायलट सतर्क

ईरान के दुस्साहस ने एकबारगी भारत को भौचक कर दिया। ईरान ने आबूधाबी में खड़े राफेल के बेड़े के पास समुद्र में एक के बाद एक मिसाइल दाग दीं।

दिल्ली- ईरान के दुस्साहस ने एकबारगी भारत को भौचक कर दिया। ईरान ने आबूधाबी में खड़े राफेल के बेड़े के पास समुद्र में एक के बाद एक मिसाइल दाग दीं। आपको बता दें कि अमेरिका के साथ चल रहे तनाव के बीच ईरान का लंबे समय से तनाव चल रहा है। ईरान ने मंगलवार को संयुक्‍त अरब अमीरात स्थित फ्रांस के अल धाफ्रा हवाई ठिकाने के पास समुद्र में कई मिसाइलें दागीं।’

इस ईरानी मिसाइल परीक्षण के बाद पूरे फ्रांसीसी बेस को हाई अलर्ट कर दिया गया। अल धाफ्रा एयर बेस पर आज भारत आ रहे 5 राफेल फाइटर जेट खड़े थे और उनके साथ भारतीय पायलट भी मौजूद थे।

ईरानी मिसाइल खतरे को देखते हुए भारतीय पायलटों को भी सुरक्षित स्‍थानों पर छिपने के लिए कहा गया। अमेरिकी सेंट्रल कमांड ने ईरानी मिसाइल टेस्‍ट की पुष्टि की और कहा कि ईरान ने मंगलवार को अलसुबह में स्‍ट्रेट ऑफ हरमुज के पास कई मिसाइलें दागी।

सूत्रों के मुताबिक ईरान की मिसाइलों ने खाड़ी में स्थित अमेरिकी और फ्रांसीसी सैन्‍य ठ‍िकानों के पास मिसाइल परीक्षण किया। कम से कम तीन मिसाइलों के समुद्र के अंदर गिरने की रिपोर्टें आ रही हैं। बताया जा रहा है कि ईरान इस इलाके में सैन्‍य अभ्‍यास कर रहा है।

ईरानी मिसाइलें अल धाफ्रा हवाई ठिकाने के पास ग‍िरीं

ये ईरानी मिसाइलें कतर के अल उदेइद और यूएई के अल धाफ्रा हवाई ठिकाने के पास गिरीं। अल धाफ्रा में ही भारतीय वायुसेना के नए नवेले राफेल फाइटर जेट खड़े थे। ईरानी मिसाइल हमले के बाद पूरे फ्रांसीसी एयरबेस को हाई अलर्ट पर रख दिया गया और भारतीय पायलटों को सुरक्षित स्‍थानों पर जाने के लिए कहा गया।

बता दें कि पांच राफेल फाइटर जेट आज भारत पहुंच रहे हैं और इन्‍हें अंबाला में तैनात किया जाएगा। इन्हें भारतीय वायुसेना में इसके 17वें स्क्वैड्रन के हिस्से के रूप में शामिल किया जाएगा, जिसे अंबाला एयर बेस पर गोल्डन एरो के रूप में भी जाना जाता है। ये विमान लगभग सात हजार किलोमीटर का सफर तय करके अंबाला वायुसेना अड्डे पर उतरेंगे।

आज दोपहर 2 बजे राफेल चूमेंगे वतन की धरती

राफेल ने आबूधाबी से सुबह 11 बजे उड़ान भर दी है। वायुसेना के सूत्रों ने बताया, एयरफोर्स चीफ कल (बुधवार को) युद्धक विमानों को रिसीव करने अंबाला में होंगे जिन्हें 2016 में 60 हजार करोड़ रुपये के देश के सबसे बड़े रक्षा सौदे के हिस्से के रूप में शामिल किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि राफेल को लेकर वायु सेना के जांबाज दोपहर 2 बजे अंबाला एयरबेस पहुंच जाएंगे।

राफेल को उड़ाकर लाने वाले पायलट्स अपने ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह की अगुवाई में अंबाला में ही एयर चीफ को बताएंगे कि उन्हें फ्रांस में किस प्रकार की ट्रेनिंग मिली है।