रेलवे की पटरी पर सरपट दौड़ेगी उम्मीदों की साइकिल
/

रेलवे की पटरी पर सरपट दौड़ेगी उम्मीदों की साइकिल, देखें वीडियो

भारतीय रेल इस समय बदलावों के दौर से गुजर रही है। एक तरफ रेलवे के इतिहास में प्राइवेट ट्रेन चलाईं गई तो वहीं सुपरफास्ट वन्देभारत।

नई दिल्ली- भारतीय रेल इस समय बदलावों के दौर से गुजर रही है। एक तरफ रेलवे के इतिहास में प्राइवेट ट्रेन चलाईं गई तो वहीं सुपरफास्ट वन्देभारत। कोरोना काल के चलते रेलवे कुछ महत्वपूर्ण ट्रेन का संचालन कर रहा है लेकिन अपनी बेहतरी के लिए नित नई खोजें कर रहा है। इसी कड़ी में भारतीय रेलवे ने ट्रेन की पटरियों पर दौड़ने वाली साइकिल बनाई है, जिसका प्रयोग रेलवे ट्रैक के इंस्पेक्शन और पटरियों की मरम्मत के लिए किया जाएगा।

उत्तर पश्चिम रेलवे के अजमेर डिवीजन के सीनियर डिवीजनल इंजीनियर पंकज सोइन के माइंड में रेल साइकिल बनाने का आइडिया आया। जिसके बाद इसे बनाया गया।

रेल मंत्री ने ट्विटर पर किया वीडियो शेयर

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीटर के जरिए रेल साइकिल का वीडियो शेयर किया है। जिसके मुताबिक रेल साइकिल का वजन महज 20 किलो है, जिसे आसानी से उठाया भी जा सकता है। साइकिल के आगे के पहिए से लंबा पाइप जुड़ा हुआ है। इस पाइप में लोहे का छोटा पहिया लगा हुआ है, जो पटरी पर एक तरफ चलेगा। दूसरे तरफ की पटरी के लिए भी दो पाइप हैं। इसमें भी लोहे का पहिया लगाया गया है, वह दूसरी पटरी पर चलेगा।

साइकिल को बनाने में रेल कार्ट के दो पुराने पहिये और लोहे के दो पाइपों का उपयोग हुआ है। इससे ट्रैक पर साइकिल का बैलेंस बना रहेगा और पटरी से गिरने का खतरा नहीं होगा। इस साइकिल से गैंगमैन और ट्रैकमैन आसानी से ट्रैक का इंस्पेक्शन करके रेल की पटरी की मरम्मत कर सकते हैं।

अधिकतम स्पीड 15 किमी/घंटा, दो लोग बैठ सकते हैं

रेलवे के मुताबिक इस रेल साइकिल पर दो व्यक्ति बैठ सकते हैं। इसकी औसत गति 10 किलोमीटर प्रति घंटा है। हालांकि रेल साइकिल को अधिकतम 15 किलेामीटर प्रति घंटे की रफ्तार से भी चलाया जा सकता है। रेलवे के मुताबिक इस रेल साइकिल को सिर्फ 5000 रुपये में तैयार किया गया है, जिसमें पुरानी साइकिल की कीमत भी शामिल है

आरसीएफ ने जुलाई महीने में रिकॉर्ड 151 एलएचबी कोच का किया निर्माण

भारतीय रेलवे की प्रोडक्शन यूनिट कपूरथला स्थित रेल कोच फैक्ट्री ने जुलाई महीने में 151 एलएचबी कोच का निर्माण किया है। यह एक महीने में आरसीएफ द्वारा सबसे ज्यादा एलएचबी कोच बनाए गए हैं। 2002 में एलएचबी कोचों की मैन्युफैक्चरिंग शुरू हुई थी। तब से अब तक ये एक महीने में सबसे बड़ा उत्पादन है। वहीं आरसीएफ ने जून में 107 कोचों का निर्माण किया था।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आरसीएफ के कामों की सराहना करते हुए ट्वीट किया, सुरक्षित एलएचबी कोचों का उत्पादन मेक इन इंडिया की सफलता की एक और कहानी है! कपूरथला स्थित रेल कोच फैक्ट्री ने जुलाई 2020 में 151 एलएचबी कोचों का उत्पादन कर एक नया रिकॉर्ड बनाया है, जो जुलाई 2019 के उत्पादन का तीन गुना है। रोजगार सृजन को बढ़ावा देना, यह अब तक का सबसे अधिक मासिक उत्पादन है।