पबजी बैन... भारत सरकार की बैन 47 ऐप्स की लिस्ट में शामिल है ये पापुलर मोबाइल गेम
/

PUB G बैन… भारत सरकार की बैन 47 ऐप्स की लिस्ट में शामिल हैं ये पापुलर मोबाइल गेम

नई दिल्ली: पबजी भारत में बेहद पॉपुलर गेम है। इसको लेकर भारत में ऐसी दीवानगी है कि एक बार इसे बैन करने की बात हुई थी तो इसके प्रेमी हाइकोर्ट तक पहुंच गए थे। लेकिन अब भारत सरकार पबजी को लेकर एक बड़ा कदम उठा सकती है। दरअसल भारत सरकार इसे बैन कर करने वाली है जिसकी मुख्य वजह यूजर्स के डेटा सुरक्षा है।

भारत सरकार ने लिया फैसला

युवाओं ओर बच्चों की पसंद पबजी को लेकर बड़ा फैसला लेते हुए केंद्र की मोदी सरकार इसे बैन करने वाली है। दरअसल भारत सरकार ने 47 मोबाइल एप्लिकेशंस को बैन करने की तैयारी कर ली है और खबरें हैं कि इन एप्लिकेशंस में से अधिकतर गेमिंग एप्लिकेशंस हैं। ऐसे में पबजी का भी बैन होना लगभग तय माना जा रहा है। जिसको लेकर प्रशंसकों के होश उड़ गए हैं।

सुरक्षा का‌ बड़ा सवाल

पबजी की सुरक्षा को लेकर सबसे ज्यादा सवाल हैं। इसकी प्राइवेसी पॉलिसी तो दूसरे मोबाइल गेम्स की तरह ही है। पबजी के जरिए यूजर्स की जरूरी जानकारियों को आसानी से एक्सेस किया जा हकता है। जिसके चलते इसे खतरा माना जा रहा है।

गेम के सर्वर को लेकर कंपनी के मुताबिक़ इसके भारत चीन और सिंगापुर सर्वर हैं जिनमें सारा डेटा सेव है। जानकारियों के मुताबिक पबजी भी टिक-टॉक की तरह ही यूजर्स के फोन से कई गैरजरूरी जानकारी मांगता है जिसका असल में कोई यूज नहीं होता है।

कंपनी ने तो अपनी जानकारी में साफ लिख रखा है कि वो यूजर्स की जानकारी थर्ड पार्टी से भी शेयर कर सकती हैं, सारा पेंच यहीं का हैं क्योंकि इससे सुरक्षा पर बड़े सवाल खड़े होते हैं।

सख्त है भारत सरकार

आपको बता दें कि भारत सरकार चीन के खिलाफ सख्त है। अपनी ऐप्स की सुरक्षा की कड़ी निगरानी कर रही है जिसके चलते जो भी ऐप भारत के नियम कानून के अनुसार खरी नहीं उतर रही हो शॉप पर भारत सरकार प्रतिबंध लगाने की पूरी तैयारियां कर रही है। पबजी भी इसमें शामिल होगा क्योंकि पबजी पर पहले भी सुरक्षा से जुड़े ख़तरे के सवाल उठते रहे हैं।

इस वक्त भारत सरकार के रडार में लगभग 275 ऐसे ही चीनी एप्स हैं जिन पर भारत सरकार अपनी पूरी शासन प्रणाली लगाकर एक एक चीज की सघन जांच कर रही है ।

चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच भारत चीन को आर्थिक मोर्चे पर पीछे धकेलने के साथ ही मोबाइल एप्लीकेशन से चीन द्वारा मॉनिटर किए जा रहे भारतीय लोगों की जानकारियों को बचाने के लिए भारत सरकार इस तरह के कड़े कदम उठा रही है।