'बुलाती है मगर जाने का नहीं... VIRAL हो रहे राहत इंदौरी के ये शेर
/

‘बुलाती है मगर जाने का नहीं… इंटरनेट पर धड़ल्ले से VIRAL हो रहे राहत इंदौरी के ये 5 शेर

आज के दौर के शायर और गाीतकार राहत इंदौरी का इंतकाल हो गया। जिसके बाद लोग उनकी मग़फिरत के लिए दुआएं मांग रहे हैं।हर कोई उनकी शायरी के जरिए उनकों याद कर रहा था।

उनका ये वाला शेर सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है ‘जब मैं मर जाऊं तो मेरी पेशानी पर लहू से हिंदुस्तान लिख देना’। और अनकों शेयर जो लोगों को जहन में आ रहे है। उनका शायरना अंदाज लोगों के बीच काफी पंसद किया जाता रहा है। उनका शेर को कहना तरीका है उनकों दूसरे शायरों से अलग बनाता था,लेकिन वो अब हमारे बीच नहीं रहें।

उन्होंने अपने आखिरी ट्वीट में भी अपने शायराना अंदाज में कहा था कि-कोविड के शुरूआती सिम्टम्स दिखाई देने पर कल मेरा कोरोना टेस्ट किया गया, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अरविन्द अस्पताल में एडमिट हूं। दुआ कीजिए जल्द से जल्द इस बिमारी को हरा दूं।उन्हें और उनके परिवार वालों को कोई फोन ना करे. वो अपने बारे में सारी जानकारी ट्वीट पर ही देते रहेंगे.

दरअसल, बीते कुछ सालों के इंटरनेट पर सबसे ज्यादा वायरल होने वाली पंक्तियों पर कोई सर्वे किया जाए तो निश्चित ही टॉप पर राहत इंदौरी के लिखी हुई लाइन्स ही होंगी. उनकी लिखे शेर-

1.बुलाती है मगर जाने का नईं
वो दुनिया है उधर जाने का नईं
इस शेर की पहली लाइन्स पर इतने मीम्स बने हैं कि इंटरनेट पर से सभी सामग्री को प्रिंट करके घर में रखें तो कई घर भर जाएं। भोजपुरी समेत इंटरनेट की दुनिया में जमकर वायरल हुए। इस लाइन को उठाकर लोगों ने अपनी नई कविता बना ली, गाने बना लिए।

2.इसी तरह-
मेरे हुजरे में नहीं और कही पर रख दो
आसमान लाये हो ले आओ ज़मीन पर रख दो

इस शेर की दूसरी लाइन इतनी मकबूल हुई कि लोगों के व्हाट्सएप पर बरबस ही ये लाइन आपको हर दो चार दिन में नजर आ ही जाएगी. जबकि देश को लेकर कहा गया उनका शेर-

3.सभी का ख़ून है शामिल यहां की मिट्टी में
किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है

या फिर घरेलू रिश्तों को बयां करता हुआ ये शेर भी इंटरनेट की दुनिया में बेहद मशहूर हुआ-

4.मेरी ख़्वाहिश है कि आंगन में न दीवार उठे
मेरे भाई मेरे हिस्से की जमीन तू रख ले

मौजूदा राजनैतिक हालात को लेकर लिखा गया उनका ये शेर भी इंटरनेट की दुनिया में गुड मॉर्निंग गुड इवनिंग का मैसेज बनता है.

5.’बनके एक हादसा बाजार में आ जाएगा
जो नहीं होगा वह अखबार में आ जाएगा
चोर, उचक्कों की करो कद्र कि मालूम नहीं
कौन कब कौन सी सरकार में आ जाएगा

हालांकि, अब राहत इंदौरी दुनिया को अलविदा कह गए। उन्हें देखकर बहुत से लोगों ने इंटरनेट के जरिए से शेरो-शायरी शुरू की.