सीतापुर के एसपी आरपी सिंह ने खुद की जेब से क्यों भरा ऑटो का 3000 का चलान, जानिए

उत्तर प्रदेश के सीतापुर में एसपी आरपी सिंह ने दीपावली की शाम खैराबाद में स्थित कुष्ठ आश्रम में रहने वाले रोगियों के साथ दीपावली का त्यौहार मनाया. एसपी आरपी सिंह ने दरियादिली दिखाते हुए कुष्ठ आश्रम में रहने वाले रोगियों के परिवार के साथ दीपोत्सव में बच्चों को मिठाइयां भी बांटी. इसी दौरान कुष्ठ आश्रम के प्रधान इब्राहिम ने एसपी आरपी सिंह को अपनी समस्याएं भी बताई. जिसका समाधान एसपी ने खुद अपने पास से किया और उन्हें खुशियों की सौगात दी.

सीतापुर के एसपी आरपी सिंह ने खुद की जेब से क्यों भरा ऑटो का 3000 का चलान, जानिए

आश्रम के प्रधान इब्राहिम ने एसपी आरपी सिंह को बताया कि, उनका बेटा बिसवां से रोगियों को लाने के लिए गया था, तो वहीं मानपुर में उसकी ऑटो का चालान कट गया है. यह चालान ₹3000 का है, लेकिन उनके पास पैसे नहीं हैं. उनकी यह समस्या सुनकर एसपी ने खुद अपने पास से ₹3000 चालान के लिए दिए और कहा, वह जनपद के पुलिस कर्मियों को भी हिदायत देंगे कि, दोबारा इस तरह की कोई घटना ना हो.

3000 के चालान का खुद किया भुगतान

कुष्ठा आश्रम पहुंचते ही पुलिस एसपी को वहां के संचालक ने बताया कि, वह बिसवां खुद कुछ रोगियों को लेकर गए थे. बाद में उन्होंने रोगियों को वापस लाने के लिए अपने बेटे को भेजा. जब उनका बेटा वापस आ रहा था तो मानपुर थाना क्षेत्र में पुलिस ने उनके ऑटो का चालान काट दिया.

पुलिस वालों ने चालान का जुर्माना ₹3000 बताया. इब्राहिम की समस्या सुनकर एसपी ने मानपुर थाने से बातचीत की. उन्होंने वहां से इस मामले की पूरी जानकारी ली. जानकारी प्राप्त करने के बाद एसपी आरपी सिंह ने चालान के ₹3000 खुद ही भुगतान किए. इसी दौरान आश्रम के प्रधान इब्राहिम ने एसपी की सराहना की और उनकी प्रशंसा में नारे भी लगाए . एसपी आरपी सिंह ने उन्हें विश्वास दिलाया कि, इस तरह की घटना दोबारा नहीं होगी.

सीतापुर के एसपी आरपी सिंह ने खुद की जेब से क्यों भरा ऑटो का 3000 का चलान, जानिए

लोगों का ध्यान रखना हमारा कर्तव्य है – एसपी आरपी सिंह

इसी दौरान आरपी सिंह ने कहा कि, ” हम तो यहां पर दीपावली का त्यौहार मनाने आए थे. सब का त्यौहार अच्छा हो इसलिए हम यहां पर त्यौहार मना रहे हैं. हमारी कोशिश है कि खुद को अपेक्षित महसूस ना करें”.

चालान के संबंध में उन्होंने कहा कि , ” समाज के वंचित लोगों का ध्यान रखना हमारा कर्तव्य है. हम पूरी कोशिश करेंगे कि इस तरह की घटना दोबारा ना हो”. एसपी आरपी सिंह की इस दरियादिली कि लोग खूब सराहना कर रहे हैं.

Urvashi Srivastava

मेरा नाम उर्वशी श्रीवास्तव है. मैं हिंद नाउ वेबसाइट पर कंटेंट राइटर के तौर पर...