ये है भारत के 'समुद्री  योद्धा' , जो पलक झमकते ही  दुश्मन को मिट्टी में मिला देती है

भारत में तीन तरह की सेना है, जिनमें थल सेना, वायु सेना और नौसेना आती है. जहां भारत की नौसेना हमेशा अपने अत्याधुनिक जहाज और पनडुब्बीयों से दुश्मनों पर कड़ी नजरें बनाये रहती है. नौसेना के पास ऐसे अनेक हथियार के रूप में लड़ाकू योद्धा है, जो दुश्मन की एक गलत हरकत से उसके पुरे अभियान को निश्तेनाबूत कर सकते है.आइये जानते है हमारी नौसेना के जहाजो और पनडुब्बीयों पर डालते है एक नजर,

भारत की नौसेना का जाबांज योद्धा आईएनएस अरिहंत

भारत

6,000 टन के आईएनएस अरिहंत का निर्माण उन्नत प्रौद्योगिकी पोत ATV परियोजना के तहत पोत निर्माण केंद्र विशाखापत्तनम में 2.9 अरब अमेरिका डॉलर की बड़ी राशि के साथ किया गया था.‘आईएनएस अरिहंत’ भारतीय नौसेना की प्रथम स्वदेशी पनडुब्बी है.

बात करे अरिहंत की लंबाई की 110 मीटर है और इसकी  चौड़ाई 11 मीटर है.  पंचेंद्रिय नामक एडवांस सोनार प्रणाली से लैस इस पनडुब्बी में थल और आकाश के बाद जल के भीतर से परमाणु वार करने की क्षमता है. अरिहंत के नौसेना में शामिल हो जाने से भारत के लिए बड़ी ताकत बन चूका है साथ ही भारत अब इस तरह की ताकत रखने वाले छठवां देश बन चूका है.

आईएनएस सिंधुघोस

भारत

इंडिया और रूस देश के समझौते के तहत निर्मित ये पन्दुब्बियाँ डीजल और बिजली से चलती है. 3000 टन की विस्थापन क्षमता के साथ इनकी गति 18 से नाट से ज्यादा है, जिसकी वजह से ये पन्दुब्बियाँ समुद्र के अंदर 300 मीटर तक चली जाती है. इन पनडुब्बियों में  लगभग 53 नाविक 45 दिन तक टिक सकते है.इन पनडुब्बियों के  सिंधुघोष, सिंधुध्वज, सिंधुराज, सिंधुवीर जैसे कई वर्जन है.

आईएनएस चक्र-2

भारत

आईएनएस चक्र-2 पनडुब्बी भी अपनी खास क्षमता के लिए पहचानी जानी जाती है. माना जाता है कि यें पनडुब्बी चीन और पाकिस्तान को कड़ा जवाब देने की क्षमतारखती है.

आईएनएस चक्र-2 को भारतीय नौसेना की सबसे बड़ी ताकत वाली पनडुब्बी माना जाता है. आईएनएस चक्र हिन्द महासागर और अरब सागर में  दुश्मनों पर कड़ी निगरानी बनाये रखती है. बता दें इस सम्मरिन को रूस में निर्मित किया गया था, जिसके बाद साल 2014 में इसे भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था.

आईएनएस खांदेरी

भारत

साल 2017 में शामिल किया गया आईएनएस खांदेरी भारतीय नौसेना का सबसे आधुनिक पनडुब्बियों में से एक है. इसे हर मौसम में इस्तेमाल किया जा सकता है, साथ ही ये आईएनएस ख़ुफ़िया जानकारियां इकट्ठा करने में बहुत सहायक पनडुब्बी माना जाता है.

आईएनएस कलवरी

भारत

हाल ही में नरेंद मोदी ने इसे भारतीय नौसेना में शामिल किया है. गाईडेड हथियारों से लैस 1870 तन वजनी आईएनएस दुश्मनों को चकमा देने देने में बहुत माहिर खिलाड़ी है.