अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल ने सपा के साथ गठबंधन पर रखी शर्त
/

अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल ने सपा के साथ गठबंधन पर रखी ये शर्त

नई दिल्ली: दीपावली के समय सैफई में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा दिए गए बयान पर प्रसपा पार्टी संरक्षक शिवपाल सिंह ने पार्टी विलय को खारिज किया है। बता दें कि, कानपुर में एक कार्यकर्ता के आवास पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के संरक्षक एवं पूर्व मंत्री शिवपाल यादव ने प्रेस वार्ता की। इस दौरान उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी का समाजवादी पार्टी या किसी भी दल में विलय नहीं होगा।

प्रदेश के सभी जिलों में प्रसपा का संगठन तैयार

अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल ने सपा के साथ गठबंधन पर रखी ये शर्त

आगे उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी छोटे दलों के साथ गठबंधन करके चुनाव मैदान में उतरने की तैयारी कर रही है। इसी के साथ उन्होंने यह भी कहा कि यदि समाजवादी पार्टी उन्हें सम्मानजनक सीटें देंगी, तभी गठबंधन संभव हो सकेगा।शिवपाल यादव ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में प्रसपा का संगठन तैयार हो गया है। वहीं बूथ स्तर पर कमेटियों का गठन किया जा रहा है और कार्यकर्ता पार्टी के लिए पूरी निष्ठा के साथ अपना काम कर रहे हैं।

शिवपाल यादव ने भाजपा सरकार पर बोला हमला

अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल ने सपा के साथ गठबंधन पर रखी ये शर्त

इसी कड़ी में आगे कहा कि संगठन आगामी 2022 विधानसभा चुनाव की तैयारी में भी जुट गया है। इस बीच शिवपाल यादव ने भाजपा सरकार भी हमला किया। उन्होंने सत्तासीन बीजेपी सरकार पर तीखे वार करते हुए कहा कि भाजपा की सरकार में किसान, मजदूर, बेरोजगार, नौजवान सभी वर्ग अत्यंत परेशान हैं और लोग आज भी नोटबंदी का दर्द झेल रहे हैं।

प्रदेश सरकार पर भी निशाना साधा

अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल ने सपा के साथ गठबंधन पर रखी ये शर्त

भ्रष्टाचार इतना ज्यादा बढ़ गया है कि लोगों के काम सरकारी कार्यालयों में नहीं हो पा रहे हैं। इसी कड़ी में शिवपाल यादव ने आगे कहा कि यूपी सरकार द्वारा गड्ढा मुक्त सड़कें करने का दावा भी किया गया था, जबकि सड़कें गड्ढायुक्त नजर नहीं आती हैं। प्रदेश में विकास के नाम पर सिर्फ और सिर्फ दावे ही है।

आगे उन्होंने कहा कि प्रदेश में रोजाना हत्या, बलात्कार, लूट जैसे अपराध बढ़ रहे हैं। प्रदेश की जनता पूरी तरह से त्रस्त हो चुकी है। प्रदेश सरकार का अपराधियों पर कोई भी नियंत्रण नहीं है। शिवपाल यादव ने कहा कि प्रसपा का संगठन काफी ज्यादा मजबूत है और सपा में प्रसपा के विलय की सिर्फ अफवाह फैलाई जाती हैं।