क्रिकेट जगत के वो पांच सितारे जिनकी विदाई के समय हर किसी की आंख में थे आंसू

क्रिकेट (Cricket) एक ऐसा खेल है जो दुनिया भर में काफी लोकप्रिय है. जिस देश में भी क्रिकेट खेला जाता है वहां क्रिकेटर को बहुत ही ज्यादा पसंद किया जाता है. चाहे इंडिया में तेंदुलकर हो या श्रीलंका के मुरलीधरन सभी अपने देश के लिए बहुत ही बढ़िया प्रदर्शन किया है. ऐसे में शानदार खिलाडियों को भी एक न एक दिन संन्यास लेना पड़ता है और तब आपको पता चलता चलता है की आपका पसंदीदा खिलाडी अब कभी मैदान में नहीं दिखाई देगा. तो सभी प्रशंसकों के चेहरे पर अपने खिलाडी को विदाई देते समय आंसू भी दिखाई दे जाते है. इस गम को शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है. तो चलिए आज बात करते है कुछ ऐसे ही खिलाडियों की विदाई की जिसपर कोई भी अपने गम को रोक नहीं पाया.

Cricket इतिहास के ऐसे पल जब हर कोई था भावुक

1. ब्रायन लारा

क्रिकेट जगत के वो पांच सितारे जिनकी विदाई के समय हर किसी की आंख में थे आंसू

वेस्टइंडीज की क्रिकेट (Cricket) टीम भले इस समय बहुत ही अच्छे दौर से नहीं गुज़र रही है पर एक समय पर वेस्टइंडीज क्रिकेट की सबसे दिग्गज टीमों में से एक थी. ऐसे ही दौर में टीम के सबसे ख़ास बल्लेबाज़ साबित हुए थे ब्रायन लारा. महान खिलाडियों में ब्रायन लारा की गिनती टॉप पर होती है. वेस्ट इंडीज क्रिकेट में उनका योगदान काफी महत्वपूर्ण रहा है.

साल 1990 में वेस्टइंडीज के लिए वनडे इंटरनेशनल और टेस्ट में डेब्यू किया. लारा ने दोनों तरफ के क्रिकेट मुकाबलों में शानदार प्रदर्शन किया है. उनके क्रिकेट (Cricket) करियर की बात करे तो लारा ने 299 वनडे मुकाबलों में 40 से ज्यादा की औसत से 10405 रन बनाये है. इसमें उनका अधिकतम स्कोर 165 का रहा है. ODI क्रिकेट में उन्होंने 19 शतक और 63 अर्ध शतक भी लगाये है. टेस्ट की बात करे तो उन्होंने 131 टेस्ट मैचों में 11953 रन बनाये है. टेस्ट में उनके द्वारा बनाया गया 400 रन का स्कोर आज भी विश्व रिकॉर्ड है. ऐसे में जब ब्रायन लारा ने अपने क्रिकेट करियर को अलविदा कहा तो मैदान में बहुत ही भावुक पल आया. जब फैंस को उनके जाने का गम साफ तौर पर दिखायी दे रहा था.

2. मुथैया मुरलीधरन

क्रिकेट जगत के वो पांच सितारे जिनकी विदाई के समय हर किसी की आंख में थे आंसू

क्रिकेट जगत में जब भी स्पिनर का जिक्र किया जायेया तो श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन का नाम सबसे ऊपर आयेगा. इंटरनेशनल क्रिकेट में 800 विकेट का आंकड़ा छूने वाले वो एकमात्र बल्लेबाज़ है. ऑस्ट्रेलिया के शेन वार्न और मुथैया मुरलीधरन दोनों ही अपने समय के सबसे बेहतरीन खिलाडियों में से एक है. मुथैया मुरलीधरन की गेंदे हमेशा ही विरोधी टीम के बल्लेबाजों को डरा देती थी.

उनके क्रिकेट (Cricket) करियर की बात करे तो उन्होंने अपने द्वारा खेले गये 133 टेस्ट मैचों में 800 विकेट अपने नाम किये है. वन डे क्रिकेट में 350 मैच में 534 और 12 t20 मैचों में उन्होंने 13 विकेट भी झटके है. साथ ही उन्होंने कुछ साल आईपीएल भी खेला है जिसमे 66 मैचों में उन्होंने 63 विकेट हासिल किये है जिसमें उनकी इकॉनमी 6.68 की रही थी जो शानदार कही जा सकती है. मुरलीधरन ने अपना आखरी मैच 2011 में खेला था. वर्ल्ड कप फाइनल होने की वजह से उनकी विदाई एक हारे हुए मैच में हुई जिस वजह से श्रीलंका के लोग सच में ही रोने लग गये थे.

3. लसिथ मलिंगा

क्रिकेट जगत के वो पांच सितारे जिनकी विदाई के समय हर किसी की आंख में थे आंसू

इस लिस्ट में एक और श्रीलंका के क्रिकेटर का नाम आता है जो है लसिथ मलिंगा. सिलिन्गा मलिंगा के नाम से मशहूर लसिथ मलिंगा श्रीलंका क्रिकेट (Cricket) में एक काफी बेहतरीन खिलाडी साबित हुए है. लसिथ मलिंगा ने अपने करियर में जिस तरह का योगदान श्रीलंका क्रिकेट टीम के लिए दिया है उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता है. वो अपने बोलिंग एक्शन की वजह से भी काफी ज्यादा सुर्ख़ियों में रहे है.

लसिथ मलिंगा ने T20 क्रिकेट को ज्यादा प्राथमिकता देते हए टेस्ट मैच से जल्द संन्यास ले लिया था लेकिन अभी तक के लिए गये 30 टेस्ट मैचों में उन्होंने 101 विकेट अपने नाम किये है. इसके अलावा खेले गये 226 ODI मैचों में उन्होंने 338 विकेट लिए है जिसमें एवरेज 28.87 का रहा है. साथ ही उन्होंने श्रीलंका के लिए 84 टी20 मैच भी खेले है जिसमें उन्होंने 107 विकेट भी लिए है. साथ ही वो चार बॉल में चार विकेट का कारनामा भी करने वाले दुनिया के अकेले गेंदबाज़ है.

4. सौरव गांगुली

Cricket

इंडियन क्रिकेट में भी एक से बढ़कर एक शानदार खिलाडी मिलते है. जिसमें इंडियन क्रिकेट में कप्तानी का तरीका ही बदल देने वाले सौरव गांगुली एक शानदार बाये हाथ के बल्लेबाज़ और टीम के लिए संकट में विकेट दिलवाने पार्ट टाइम गेंदबाज़ भी थे. भारत के पूर्व महान कप्तान सौरव गांगुली का भारतीय क्रिकेट टीम के लिए बहुत ही जबरदस्त योगदान रहा है.

सौरव गांगुली ने इंडिया के लिए 113 टेस्ट मैच खेले है जिसमें उन्होंने 7212 रन बनाए है और उनका एवरेज 40 से ऊपर का रहा है. इसी तरफ एकदिवसीय मुकाबलों की बात करे तो उन्होंने 311 मैच खेले है जिसमें 40 से ज्यादा की औसत से उन्होंने 11363 रन बनाये है. उसमें 22 शतक भी शामिल है. सौरव गांगुली को टीम में सब दादा कहकर बुलाते है और वर्तमान समय में वो इंडियन क्रिकेट बोर्ड के प्रेसिडेंट है. गांगुली ने अपना आखिरी मुकाबला 2008 में खेला था और उनकी विदाई के समय मैदान में सभी की आँखे नम हो गयी थी.

5. सचिन तेंदुलकर

Sachin Tendulkar 2

क्रिकेट जगत में जब भी टॉप क्लास प्लेयर की बात करेंगे तो सचिन तेंदुलकर का नाम सबसे ऊपर आता है. क्रिकेट के भगवान के नाम से मशहूर सचिन तेंदुलकर अपने समय के ही नहीं क्रिकेट के इतिहास के सबसे शानदार खिलाडी है जिन्होंने लगभग सभी रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए है. सचिन तेंदुलकर क्रिकेट जगत के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज हैं जिन्होंने इस खेल में 24 साल का करियर दिया.

क्रिकेट के मैदान में सचिन जब भी बल्लेबाज़ी के लिए उतरते थे सभी दर्शक सचिन सचिन चिल्लाने लगते थे. इंडिया के लिए 200 टेस्ट खेलने वाले सचिन में 53 से ज्यादा के एवरेज से उन्होंने 15921 रन बनाये है. इसके साथ ही 463 खेले गये वनडे इंटरनेशनल में उन्होंने 18426 रन बनाये है. यह दोनों ही अपने आप में एक रिकॉर्ड है. उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 100 शतक भी लगाये है. सचिन ने जब साल 2013 में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट मैच खेलकर अपने घरेलू मैदान वानखेड़े स्टेडियम में विदाई ली तो हर किसी की आंखे भर आयी थी. ये वो पल था जब क्रिकेट जगत ने इससे पहले कभी नहीं देखा था.

और पढ़िए:

टीम इंडिया के इन फ्लॉप प्लेयर्स की पत्नियाँ देती है अभिनेत्रियों को भी मात, बेहतर खुबसूरत होने के साथ कातिलाना अंदाज़

क्रिकेट जगत में विवादों के चलते अपना करियर खत्म करने वाले 5 इंटरनेशनल क्रिकेटर, दो भारतीय खिलाडी भी शामिल

वनडे क्रिकेट के 3 ऐसे भारतीय खिलाडी जिन्हें दुनिया का कोई भी गेंदबाज़ आउट नहीं पाया, धोनी का डुप्लीकेट भी लिस्ट में शामिल