हनुमा विहारी ने खोला राज, बताया क्यों ऑस्ट्रेलिया में तीसरा टेस्ट जीतने में असफल रही टीम इंडिया

रविचंद्रन अश्विन और हनुमा विहारी दोनों ही इस समय चोट और तकलीफ को लेकर परेशान है। जहां अश्विन की कमर में लगातार दर्द था,  विहार हैमस्ट्रिंग की चोट से काफी ज्यादा परेशान थे। ऐसे में रन के बीच में दौड़ पाना उनके लिए बेहद मुश्किल भरा संकल्प था। ऐसे में 3 घंटे की मैराथन पारी और खतरनाक तेज़ दौड़। साथ ही साथ लगातार सावधानी बरतते हुए अश्विन और हनुमा विहारी काफी ज्यादा परेशान हो गए।

हनुमा विहारी ने खोला राज, बताया क्यों ऑस्ट्रेलिया में तीसरा टेस्ट जीतने में असफल रही टीम इंडिया

हनुमा विहारी चोट के कारण ब्रेन टेस्ट से भी बाहर निकाल दिए गए। रविंद्र जडेजा भी चोटिल से अंगूठी में फैक्चर था,जिस वजह से वह भी बाहर हो गए। यानी कि अब भारतीय टीम ब्रिसबेन टेस्ट में दो बदलावों के साथ मैदान में उतरने वाली है।

 

हनुमा विहारी ने खोला राज, बताया क्यों ऑस्ट्रेलिया में तीसरा टेस्ट जीतने में असफल रही टीम इंडिया

 

रविचंद्रन अश्विन ने इंटरव्यू के दौरान कहा कि, ‘ हैमिस्ट्रिंग से हानुमा परेशान थे और मेरी भी कमर में लगातार दर्द था। हम एकाग्रता को तोड़ना नहीं चाहते थे। बेकार शॉट खेलने की तो कोई भी गुंजाइश नहीं थी। आखिरी चार पांच ओवर में हमें पता चला कि, हम करीब तय थे और गिरने वाले हैं। इसके बाद में स्ट्राइक रोटेट करके एक दूसरे के छोर पर खेलने लगे। हमने आखिर के कुछ क्षणों में जश्न तक नहीं मनाया, क्योंकि पता ही नहीं चल रहा था कि क्या किया जाए। उस समय हम तेज़ गेंदबाज का सामना करने और विकेट बचाने में लगे हुए थे’।

किस्मत ने दिया साथ- अश्विन

अश्विन ने 128 गेंद में 39, विहारी ने 161 गेंद में 23 रन हासिल किए थे। दोनों ने छठे विकेट के दौरान 62 रन की साझेदारी करके मैच को बचा लिया था। अश्विन का कहना है कि, ‘ पारी की शुरुआत में ही वह काफी दर्द महसूस कर रहे थे। उस दौरान उनके पीठ में भी दर्द हो रहा था। उन्होंने बताया कि, ‘जब वह बल्लेबाजी कर रहे थे तो नाथन लायन गेंदबाज थे। तीन चार गेंद के बाद कमर में दर्द होने लगा। उन्होंने विहारी से कहा भी कि, तब ऊंचा शॉट नहीं खेलना उचित था’।

अश्विन ने कहा कि, कमिंस के स्पैल में तो लगने लगा था कि, हम किसी तूफान के सामने हैं। उस समय किस्मत ने हमारा साथ दिया और हम आगे निकल गए’।

हनुमा विहारी ने खोला राज, बताया क्यों ऑस्ट्रेलिया में तीसरा टेस्ट जीतने में असफल रही टीम इंडिया

हम जीत सकते थे सिडनी टेस्ट- विहारी

हनुमा विहारी कहा, ‘अगर चोट ना लगे होती और पुजारा कुछ समय तक और टिक सकते तो कुछ और ही नतीजा सामने आता। ड्रॉ भी काफी अच्छा नतीजा हुआ। लेकिन इससे हम लोग शानदार जीत भी हासिल कर सकते थे’।

विहारी ने बताया, अश्विन उनके साथ भाई की तरह ही बात कर रहे थे। जब भी उन्हें लगा कि, वह एक बेकार शॉट खेल रहे हैं, तो उन्होंने फोकस करने के लिए भी सलाह दी।

Urvashi Srivastava

मेरा नाम उर्वशी श्रीवास्तव है. मैं हिंद नाउ वेबसाइट पर कंटेंट राइटर के तौर पर...