अपराधियों के हौंसले बुलंदी पर नोएडा से 10 साल का बच्चा लापता
/

यूपी में अपराधियों के हौंसले बुलंदी पर, कानपुर-गोंडा के बाद अब नोएडा से 10 साल का बच्चा लापता

नोएडा में 10 साल का मासूम शिवम संदिग्ध हालातों में लापता हो गया।

उत्तर प्रदेश पुलिस लगातार एनकाउंटर कर बदमाशों के हौसले तोड़ने में लगी है लेकिन ऐसा लग रहा है कि राज्य में अपराधियों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं। कानपुर में संजीत कांड में फिरौती के बाद भी हत्या व गोंडा में किराना व्यवसायी के पुत्र का दिनदहाड़े अपहरण कर अपराधी लगातार पुलिस को चुनौती दे रही हैं। अभी इन घटनाओं को बीते 3 दिन भी न हुए थे कि नोएडा में 10 साल का मासूम शिवम संदिग्ध हालातों में लापता हो गया।

परिजन एक हफ्ते से काट रहे थाने का चक्कर 

यह मामला सेक्टर 20 थाना क्षेत्र के हरौला का है। जहां लापता मासूम 5वीं कक्षा का छात्र है। परिजनों ने उसके लापता होने की पुलिस में शिकायत की तो पुलिस ने खानापूर्ति के लिए गुमशुदगी दर्ज कर ली है। बच्चे को गायब हुए एक हफ्ते से भी ज्यादा का वक्त हो चुका है और परिजन तभी से थाने का चक्कर काट रहे हैं। मगर न तो परिजनों को उसकी कोई खबर लगी और न ही पुलिस कोई कार्रवाई कर रही है।

पालतू खरगोश के लिए चारा लाने के लिए गया था मासूम
लापता बच्चे के पिता ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि उन्होंने शिवम को पास के ही एक दुकान से पालतू खरगोश के लिए चारा लेने के लिए भेजा था। शाम तक जब वह घर नहीं लौटा तो चिंता होने लगी। उन्होंने बच्चे को आस- पड़ोस, रिश्तेदारों के यहां तलाशा पर उन्हें बच्चे का पता न चला। उन्होंने बताया कि बच्चा बहुत ही समझदार है वो भागने का तो सोच ही नहीं सकता और बात रही रास्ता भटकने की तो वह अपनी मां की मदद के लिए दूर-दूर जाया करता था।

कानपुर में हुए संजीत अपहरण- हत्या से भी सबक न ले रही पुलिस
22 जून की रात लैब टेक्नीशियन संजीत पैथालॉजी में सैंपल देने के लिए निकला था। सैंपल देकर उसे घर जाना था लेकिन रास्ते से लापता हो गया। गुमशुदगी दर्ज होने के बाद पुलिस ने जब संजीत की कॉल डिटेल निकलवाई तो पता चला कि संजीत की बात राहुल नामक एक युवक, एक युवती सहित कई अन्य लोगों से हुई थी।

पिता चमनलाल ने राहुल के खिलाफ बेटे के अपहरण का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई थी। 13 जुलाई को पिता ने पुलिस के कहने पर फिरौती के 30 लाख रुपए से भरा बैग भी अपहर्ताओं के कहने पर गुजैनी पुल से नीचे फेंक दिया था। इसके बावजूद अपहृत बेटा नहीं मिला। अब उसके हत्या होने की पुष्टि पुलिस ने कर दी है।