उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने विकास दुबे की गिरफ्तारी पर उठाया सवाल

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने विकास दुबे की गिरफ्तारी पर उठाया सवाल, जवाब दे सरकार

कानपुर एनकाउंटर मामले का मुख्य आरोपी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे बेशक पुलिस के हत्थे चढ़ गया, लेकिन उसकी गिरफ्तारी पर सवाल उठने शुरू हो गए है. ऐसे में यूपी के पूर्व सीएम व समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव ने भी इस मामले में यूपी सरकार से सवाल पूछा है कि यह आत्मसमर्पण है या गिरफ्तारी.
कानपुर एनकाउंटर मामले का मुख्य आरोपी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे गुरुवार को मध्य प्रदेश उज्जैन में पकड़ा गया। 2 जुलाई की रात उसे पकड़ने गई पुलिस पर उसने हमला कर दिया था जिसमे 8 पुलिस जवान शहीद हो गए थे.  इसी मामले में वह मोस्ट वांडेट था। वहीं इस पूरे मामले में समाजवादी पार्टी (सपा) सुप्रीमो अखिलेश यादव ने सवाल उठाए हैं।
उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार से पूछा कि यह आत्मसमर्पण करना है या फिर गिरफ्तारी ? अखिलेश यादव ने ट्वीट कहा कि
“खबरें आ रही हैं कि कानपुर कांड का मुख्य अपराधी  पुलिस की हिरासत में है। अगर यह सच है, तो सरकार साफ करे कि यह आत्मसमर्पण है या गिरफ्तारी। इसके अलावा सीडीआर (कॉल डिटेल रिकॉर्ड) को सार्वजनिक करें, जिससे सच्ची मिली भगत का भांडा फोड़ हो सके.”

एमपी सीएम बोले मैनें यूपी सीएम से बात कर ली है….

उज्जैन मंदिर के सूत्रों ने कहा कि दुबे सुबह-सुबह महाकाल मंदिर पहुंचा। उसने पुलिस चौकी के पास एक काउंटर से 250 रुपये का टिकट खरीदा। इसके बाद वह पास की दुकान से प्रसाद लेने गया। जहां दुकान के मालिक ने उसकी पहचान की और पुलिस को सतर्क किया। जब पुलिसकर्मियों ने उससे उसका नाम पूछा, तो उसने जोर से कहा विकास दुबे, जिसके बाद मंदिर में तैनात कर्मियों ने उसे दबोच लिया।
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पुलिस को विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए बधाई दी है। साथ ही उन्होंने ट्वीट किया,
“मैंने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात कर ली है। शीघ्र आगे की कानूनी कार्रवाई की जायेगी। मध्यप्रदेश पुलिस, विकास दुबे को उत्तर प्रदेश पुलिस को सौंपेगी।”

इसी के साथ उन्होंने कहा कि
” जिनको लगता है कि महाकाल की शरण में जाने से उनके पाप धुल जाएंगे उन्होंने महाकाल को जाना ही नहीं. हमारी सरकार किसी भी अपराधी को बख्शने वाली नहीं है. “