SO ने SSP से बोला-हां, मुझे मालूम था विकास कुछ भी कर सकता है
/

विकास दुबे केस :SO ने SSP से बोला-हां,मुझे मालूम था विकास दुबे कुछ भी कर सकता है, AUDIO VIRAL

नई दिल्ली: दो जुलाई की रात कानपुर के बिकरू गांव में हुए गोलीबारी कांड से जुड़े ऑडियो के वायरल होने का सिलसिला लगातार जारी है। इसी कड़ी में  मंगलवार को इस कांड से जुड़ा एक और ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। जिसमें दावा किया जा रहा कि इसमें पूर्व एसएसपी दिनेश कुमार पी और पूर्व थाना प्रभारी विनय तिवारी की बातचीत है। इस ऑडियो में सबसे अहम बात यह है कि सभी को मामूल था कि विकास दुबे काफी खतरनाक अपराधी है और वह कुछ भी कर सकता है। वहीं बातचीत के दौरान एसओ ने भी कहा था कि हां मुझे मालूम था, विकास दुबे कुछ भी कर सकता है।  लेकिन वह वह हालातों को भाप नहीं पाए, जिससे सीओ समेत आठ पुलिस कर्मियों की जान चली गई।

दोनों के बीच हुई बातचीत :

एसओ : सर मैं बोल रहा हूं

एसएसपी : कौन एसओ बोल रहे हो

एसएसपी : कितने लोग हैं वे और किधर से गोलियां चला रहे हैं वो सब

एसओ : करीब 10 लोग गोली चला रहे हैं। गोली विकास दुबे के घर से चलाई जा रहीं है। आसपास के घरों से भी गोलियां चलीं, लेकिन अंधेरे में कुछ समझ में नहीं आ रहा है।

एसएसपी : उन्हें पता था क्या कि पुलिस फोर्स आने वाली थी ।

एसओ : जी…

एसएसपी : अब तक कितने लोग घायल हुए हैं?  दो लोग

एसओ : जी, अब 4 सिपाही हो गए हैं, चारों को बाहर निकाला गया है।

एसएसपी : उनके पास कौन से हथियार हैं ?

एसओ : 315 बोर की रायफल, पिस्टल के साथ हमलावर बम का भी इस्तेमाल कर रहे हैं।

एसएसपी : क्या तुम्हें पता था कि विकास दुबे इतना खतरनाक आदमी है। उसके साथ 4, 5 हथियारबंद बदमाश हर समय रहते हैं और वह बम भी चला सकता है।

एसओ : जी सर, मैं जानता था, मुझे अंदेशा था, इसीलिए मैंने आपको बताया था और फोर्स मांगी थी।

एसएसपी : तुमने मुझे ये नहीं बताया था कि हर समय इसके साथ चार-पांच बदमाश रहते हैं और ये बम भी चला सकता है।

एसओ : उन लोगों ने गाड़ियां सड़क पर ही छोड़ दी थीं। गोलियां चली तो सभी इधर-उधर हो गए?

एसएसपी: सीओ कहां है ? 

एसओ : वहीं है 

एसएसपी : बात हुई 

एसओ : नहीं

एसएसपी : क्या स्थिति है? अंदर फंसे सिपाहियों को बाहर निकाल पाए या नहीं, अभी सिपाही फायरिंग कर रहे हैं या नहीं।

एसओ : सर, 15 से 20 मिनट फायरिंग हुई थी। अब फायर नहीं हो रहे हैं और किसी को भी बाहर नहीं निकाला जा सका है। पुलिस टीम ने विकास को चारों ओर से घेरा था, इसी दौरान फायरिंग शुरू हो गई। कितने पुलिसकर्मियों को गोली लगी है, इसका कुछ नहीं पता।

एसएसपी : तुम्हारे थाने से पहले ही किसी ने बता दिया होगा कि दबिश पड़ने वाली है।

जिसके जवाब में एसओ  ने कोई उत्तर नहीं दिया।

एसएसपी : अंदर कितने लोग फंसे हुए हैं?

एसओ: 15 से16 लोग अभी अंदर हैं। जितनी जल्दी हो सके ज्यादा से ज्यादा फोर्स भेज दें।

एसएसपी : वह खुद आ रहे हैं।