भयंकर कुपोषण का शिकार है यूपी का यह जिला, बेटो और बेटियों में होता है भेदभाव

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में बच्चे और महिलाएं कुपोषण की ऐसी मार झेल रहे हैं जिसकी हमने कल्पना भी नहीं की होगी। जिले में कुपोषित 35 हजार बच्चे हैं और अति कुपोषित साढ़े चार हजार। अतिकुपोषित में बेटियों की संख्या अधिक है। गांवों में जाकर जब बेटियों से पूछा गया तो बोलीं- ‘अम्मा भइया को सुबह नाश्ते में दूध देती हैं और हमें चाय, रोटी या ब्रेड।’ फल, मेवा आदि में भी बेटों की बारी पहले आती है।

बेटों और बेटियों में करते हैं फर्क

भयंकर कुपोषण का शिकार है यूपी का यह जिला, बेटो और बेटियों में होता है भेदभाव

मीडिया से बात करते वक्त पैथर गांव की आंगनबाड़ी केंद्र प्रभारी कलावती ने बताया कि लोगों की मानसिकता ऐसी है। लोगों की काउंसलिंग भी की जाती है कि बेटों और बेटियों का बराबर ख्याल रखें। फिर भी लोग बच्चों के खानपान में फर्क कर देते हैं। बेटियों के बारे में पूछो तो लोग कहते हैं कि कुछ खाती नहीं और जब अन्नप्राशन कराते हैं तो खूब खाती हैं।

बंद रहता है आंगनबाड़ी केंद्र

भयंकर कुपोषण का शिकार है यूपी का यह जिला, बेटो और बेटियों में होता है भेदभाव

कुपोषण की स्थिति देखने निकले तो हमें यह पहली तस्वीर दिखी। स्कूल चूंकि बगल में ही था तो हम वहां पहुंच गए। गेट के ठीक बगल में न्याय पंचायत संसाधन केंद्र पर ताला लगा था। पहले आंगनबाड़ी केंद्र इसी में चलता था।

नहीं आतीं आंगनबाड़ी केंद्र प्रभारी

बाद में वह स्कूल के अंदर एक कमरे में चलने लगा। झांक कर देखा तो बिल्कुल खाली था। दो शिक्षिकाओं का सामान उसमें रखा हुआ था। प्रधानाध्यापक मंजू लता और शिक्षिका नम्रता त्रिवेदी बोलीं कि केंद्र बंद है। आंगनबाड़ी केंद्र प्रभारी आशा कार्यकर्ता निर्मला देवी नहीं आतीं।

अभिभावकों को बुलाकर दे देते हैं बच्चों का काम

भयंकर कुपोषण का शिकार है यूपी का यह जिला, बेटो और बेटियों में होता है भेदभाव

जब हमने पूछा कि बच्चे नहीं आते, तो बोलीं कि कोरोना की वजह से ऑन लाइन पढ़ाई हो रही है, लेकिन ज्यादातर अभिभावकों के पास संसाधन नहीं हैं। यह पूछने पर कि फिर क्या करती हैं, उन्होंने कहा कि अभिभावकों को बुलाकर बच्चों का काम दे देते हैं। मिड डे मील का खाद्यान्न राशन के साथ दे दिया जाता है।

Supriya Singh

My name is supriya .i am from ballia. I have done my mass communication from govt. polytechnic lucknow.in my family, there are 5 members including me.My mother house maker.my strengths are self confidence,willing...