एम्स ने कहा नहीं हुई सुशांत की हत्या तो मुंबई पुलिस कमिश्नर
/

एम्स ने कहा नहीं हुई सुशांत की हत्या तो मुंबई पुलिस के कमिश्नर ने कह दी ये बड़ी बात

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत को कई महीने बीत चुके हैं, लेकिन अभी तक मुंबई पुलिस को इस केस  में  कोई खास सबूत हाथ में नहीं आया. AIIMS की रिपोर्ट भी सामने आ चुकी है. इस देश की जांच सीबीआई की टीम कर रही है. रिपोर्ट के अनुसार सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या की है ना कि उनका मर्डर हुआ है.

बता दें कि, सुशांत सिंह राजपूत के केस की जांच मुंबई पुलिस कर रही थी. लेकिन बाद में यह केस सीबीआई को दे दिया गया. सुशांत केस को लेकर मुंबई पुलिस ने कहा है कि, इस केस की जांच बिल्कुल सही दिशा में हो रही है. हाल ही में मुंबई पुलिस कमिश्नर का भी बयान सामने आया है. उन्होंने अपनी बात सामने रखी.

 

 

मुंबई पुलिस कमिश्नर ने कहा, जांच में नहीं हुई थी लापरवाही

पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह का मानना है कि, ” पहले पुलिस बिल्कुल सही दिशा में जांच कर रही थी, हमारे जितने भी इंस्पेक्टर इस केस में जांच कर रहे थे, उनकी रिपोर्ट पर तमाम अधिकारियों ने क्रॉस चेक भी किया था. बाद में यह राज्य के जनरल एडवोकेट को भी दिखाया गया था. इस फैसले पर अदालत ने भी संतुष्टि जताई थी”. मुंबई पुलिस कमिश्नर ने कहा कि, ”कोर्ट ने भी हमारी जांच को सही बताया था. मुंबई पुलिस की जांच में कोई लापरवाही नहीं थी, फिर भी लोग हमारी जांच रिपोर्ट को गलत साबित करने में लगे हुए थे”.

 

 

मुंबई के पुलिस कमिश्नर का मानना है कि, ”सभी न्यूज़ चैनल पर अपने मन से कहानी बना रहे हैं. हमारी रिपोर्ट की आलोचना कर रहे हैं, हमारी एक चैनल पर वरिष्ठ वकील से पूछताछ भी हुई थी. इस दौरान मैंने पूछा कि, क्या आप मुंबई पुलिस की रिपोर्ट के बारे में जानते हैं? तो उन्होंने साफ इनकार कर दिया. उन्होंने बताया कि, चैनल के एंकर ने जिस तरह से उन्हें रिपोर्ट बताई, उन्होंने उसी तरह से टिप्पणी कर दी”.

किसी भी केस में समय लगता है

पुलिस कमिश्नर का मानना है कि, उन्होंने सुशांत सिंह राजपूत के केस में कोई भी देरी नहीं की थी. उन्होंने बताया कि, ”कोई भी मौत का मामला होता है, तो 3 से 6 महीने तक लग ही जाता हैं”. उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि, ”इस साल बांद्रा पुलिस स्टेशन में 100 से ज्यादा मौत के मामले सामने आ चुके हैं, लेकिन 20 मामलों पर ही कार्यवाही हो पाई. बाकी अभी तक पेंडिंग पड़े हुए हैं. कुछ ही केस अंजाम तक पहुंच पाते हैं”.

 

 

पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने कहा, ” हमारी जांच को कोर्ट ने भी स्वीकार किया था. हमारी जांच सही दिशा में होने के बाद यह केस सीबीआई को सौंपा गया था ना कि बिहार पुलिस को. तभी से सीबीआई इस केस में लगातार जांच में लगी हुई है”.