दीपिका के सामने टेबल पर NCB ने क्यों रखी मोटी और पतली सिगरेट
/

दीपिका के सामने टेबल पर NCB ने क्यों रखी मोटी और पतली सिगरेट, जाने

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के केस में ड्रग्स एंगल सामने आने के बाद बॉलीवुड के कई सितारों पर भी ड्रग्स उपयोग करने का आरोप लगा है. ड्रग्स मामले में सबसे पहले बॉलीवुड अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक गिरफ्तार किया गया था. NCB की पूछताछ के बाद रिया चक्रवर्ती ने बॉलीवुड के कई सितारों का नाम लिया, जिसमें से दीपिका पादुकोण, सारा अली खान, श्रद्धा कपूर और रकुल प्रीत सिंह का नाम सामने आया.

एनसीबी की टीम ने समन जारी करने के बाद अभिनेत्रियों को पूछताछ के लिए बुलाया था, शनिवार की पूछताछ के बाद दीपिका पादुकोण और श्रद्धा कपूर ने सुशांत से संबंधित कई बातों के खुलासे किए.

हम आपको बता दें कि दीपिका पादुकोण एनसीबी से मुलाकात करने के लिए गोवा गई थीं. सूत्रों के मुताबिक जब दीपिका पादुकोण NCB के कार्यालय पहुंचे पहुंची, तो वह बहुत ही नर्वस दिखाई दे रही थी. कार्यालय में दीपिका दो-तीन घंटे तक बहुत ही ज्यादा परेशान रहीं, लेकिन बाद में वह धीरे-धीरे कुछ समय बाद ही नॉर्मल भी हो गई.

पूछताछ के दौरान दीपिका से NCB ने उनकी ड्रग्स कोड लैंग्वेज के बारे में भी पूछा

NCB टीम के अधिकारियों ने दीपिका पादुकोण से ड्रग्स कोड लैंग्वेज के बारे में बात करते हुए पूछा कि, यह माल क्या है?? दीपिका ने नर्वस हो कर बहुत ही धीमी आवाज में जवाब दिया, हां पूछा था मैंने कि माल है क्या लेकिन मेरे कहने का मतलब वह माल नहीं है, जो आप सब समझे हैं. हम लोग सिगरेट को कोड भाषा में माल कहते हैं. यही हमारा कोड वर्ड है.

दीपिका ने कोड लैंग्वेज के बारे में बात करते हुए कहा कि, ”वे लोग सिगरेट को माल कहते हैं”. अलग-अलग ब्रांड के अलग-अलग सिगरेट को इन लोगों ने अलग कोड वर्ड दिया है. दीपिका ने बताया कि, ”डूब्स भी सिगरेट का ही कोड वर्ड है, और हैश स्पीड अलग टाइप की सिगरेट को कहते हैं”.

दीपिका पादुकोण ने एनसीपी की पूछताछ में सिगरेट की कोड लैंग्वेज का खुलासा किया लेकिन उन्होंने ड्रग्स का लेनदेन और उपयोग करने से साफ इनकार कर दिया है, दीपिका का कहना है कि वह ड्रग्स का उपयोग नहीं करती है.

दीपिका के साथ ही उनकी मैनेजर करिश्मा से भी की गई पूछताछ

एनसीबी की पूछताछ में सिर्फ दीपिका का नाम ही नहीं शामिल है, बल्कि उसी समय उनकी मैनेजर करिश्मा से भी पूछताछ की जा रही थी. जिस कमरे में दीपिका पादुकोण से पूछताछ हो रही थी, उसी कमरे के पास वाले दूसरे कमरे में करिश्मा से भी एनसीबी की टीम पूछताछ कर रही थी.

एनसीबी की टीम ने करिश्मा से भी कोड लैंग्वेज के बारे में वही सवाल किए. माल, हैश और डूब्स के बारे में पूछे जाने पर करिश्मा ने भी वही जवाब दिए जो पहले दीपिका ने एनसीबी की टीम को बताए थे. दोनों के जवाब एक होने से एनसीबी की टीम को यह संदेह हुआ कि, यह लोग पहले ही इस बात की योजना बना कर आए हैं. सारे मामले का सच जानने के लिए NCB की टीम ने एक दूसरा तरीका अपनाया.

क्या है मोटी और पतली सिगरेट का राज

NCB ने दीपिका की मैनेजर करिश्मा के सामने टेबल पर एक कागज और एक कलम रख दिया और इसके साथ ही दो सिगरेट रखीं. उनमें से एक सिगरेट मोटी थी और एक सिगरेट पतली थी. एनसीबी अधिकारी ने करिश्मा से कहा कि, ”दोनों ही सिगरेट के नाम लिखकर दिखाओ”. करिश्मा ने दीपिका की तरह ही पतली वाली सिगरेट का नाम हैश और मोटी वाली सिगरेट का नाम विड लिखा. सारी पूछताछ के बाद जब दीपिका और करिश्मा के जवाब एक ही मिले तो एनसीबी को यह समझ आ गया कि, दोनों ने पहले से ही प्लानिंग की हुई है “.

दीपिका को फिर से पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है NCB के कार्यालय

दीपिका पादुकोण एनसीबी से NCB की टीम ने लगभग साढ़े 3 घंटे तक लगातार पूछताछ की. पूछताछ हो जाने के बाद एनसीबी के एक अधिकारी ने उन्हें जाने की अनुमति दे दी. दीपिका पादुकोण को एनसीबी के दफ्तर में पूरे 5 घंटे रुकना पड़ा. जब दीपिका को घर जाने की अनुमति मिल गई तो उन्होंने एनसीबी अधिकारी से पूछा कि, क्या उन्हें कल भी आना पड़ेगा?

अधिकारी ने दीपिका को जानकारी देते हुए बताया कि, ”अभी तो आपको नहीं आना है, लेकिन जब जरूरत पड़ेगी तो आपको पूछताछ के लिए फिर से बुलाया जाएगा”. यह बात सुनकर दीपिका को बहुत ही राहत मिली, और वह वहां से चली गई.