'पारले-जी' का फैसला सुन, खुला रह जायेगा मुंह, लोगो ने की त..
/

‘पारले-जी’ का फैसला सुन, खुला रह जायेगा मुंह, लोगो ने की खुल कर तारीफ

पारले-जी बिस्किट कंपनी सोशल मीडिया पर इस समय ट्रेंड कर रही है। कोरोना महामारी के समय पर पारले-जी बिस्किट कंपनी अपनी रिकॉर्ड बिक्री हुई है ।

पारले-जी बिस्किट कंपनी सोशल मीडिया पर इस समय ट्रेंड कर रही है। कोरोना महामारी के समय पर पारले-जी बिस्किट कंपनी अपनी रिकॉर्ड बिक्री हुई है । बिक्री के मामले में 80 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। लेकिन कंपनी के इस बार ट्रेंड करने का कारण एकदम अलग है। कंपनी ने फैसला किया है कि वह ‘न्यूज चैनलों पर अपने प्रोडक्ट का विज्ञापन नहीं करेगी। यह कदम सोशल मीडिया यूजर्स को खूब पसंद आ रहा है। फिर ट्विटर पर #ParleG ट्रेंड करने लगा। सोशल मीडिया पर यूज़र्स, ‘सही मायने में प्रतिभाशाली’ कहकर ब्रांड के कदम की सराहना कर रहे हैं।

कंपनी ने लिया फैसला

'पारले-जी' का फैसला सुन, खुला रह जायेगा मुंह, लोगो ने की खुल कर तारीफ

समाज में जहर घोलने वाले कंटेट दिखाने वाले न्यूज़ चैनलों पर विज्ञापन नहीं देने का कंपनी ने फैसला लिया। पारले-जी से पहले बजाज कंपनी ने घोषणा की कि वह कथित रूप से ‘जहरीली आक्रामक सामग्री’ प्रसारित करने वाले समाचार चैनलों पर विज्ञापन नहीं देगी। पारले-जी से पहले बजाज ऑटो के प्रबंध निदेशक राजीव बजाज ने कहा था कि उनकी कंपनी ने तीन न्यूज चैनलों को ब्लैकलिस्ट कर दिया है। कंपनी का कहना है कि हम कोशिश कर रहे हैं कि सभी विज्ञापनकर्ता एक साथ आएं और न्यूज चैनलों पर कम से कम विज्ञापन दे। जिससे सभी न्यूज़ चैनलों को यह मैसेज मिले कि उन्हें अपने कंटेट में बदलाव करना होगा।

 

 

सोशल मीडिया पर यूज़र्स ने की तारीफ

'पारले-जी' का फैसला सुन, खुला रह जायेगा मुंह, लोगो ने की खुल कर तारीफ

पारले जी कंपनी के इस फैसले के बाद से लोग सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ कर रहे हैं। वही एक यूजर ने कहा, ‘बहुत अच्छा. सम्मान. ज्यादा से ज्यादा कंपनियों को इस रास्ते पर चलना चाहिए.’ दूसरे यूजर ने लिखा, ‘यह सिर्फ शुरुआत हो सकती है, आशा है कि अधिक से अधिक कंपनियां इसका पालन करेंगी और हमें एक सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेगा.’बता दे पारले जी ने लॉकडाउन के दौरान 80 साल के रिकॉर्ड तोड़कर बिक्री का एक नया कीर्तिमान स्थापित किया। फिलहाल पारले प्रोडक्ट्स कंपनी ने यह नहीं बताया था कि कुल कितनी बिक्री बढ़ी, लेकिन कुल मार्केट शेयर में पांच फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।