महाराष्‍ट्र मानवाधिकार आयोग ने अर्नब की गिरफ्तारी में उठाए सवाल, एसपी को किया तलब

महाराष्‍ट्र मानवाधिकार आयोग ने अर्नब की गिरफ्तारी में उठाए सवाल, एसपी को किया तलब

मुंबई : अर्नब गोस्‍वामी अरेस्ट केस में महाराष्‍ट्र मानवाधिकार आयोग ने एसपी रायगढ़  तलब किया है। उन्‍होंने एसपी रायगढ़ को अपने ऑफिस में आने के लिए पत्र लिख कर सूचित किया है। आपकों बता दें कि रिपब्‍लिक टीवी के मालिक अर्नब गोस्‍वामी को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आत्‍महत्‍या के एक मामले में उनकी गिरफ्तारी हुई है। फिलहाल उन्‍हें 14 दिनों की न्‍यायिक हिरासत में भेजा गया है। इधर उनकी गिरफ्तारी के बाद से दिल्‍ली सहित देश के कई राज्‍यों में प्रदर्शन शुरू हो गए हैं।

अर्नब पर लगा था 83 लाख रुपये का भुगतान नहीं करने का आरोप

महाराष्‍ट्र मानवाधिकार आयोग ने अर्नब की गिरफ्तारी में उठाए सवाल, एसपी को किया तलब

रिपब्‍लिक टीवी के मालिक अर्नब गोस्वामी को मुंबई के नजदीक रायगढ़ जिले से बुधवार की सुबह करीब आठ बजे गिरफ्तार किया था। करीब दो साल पुराने एक मामले यह कार्रवाई हुई है। 2018 में अलीबाग में वास्‍तुविद अन्‍वय नाईक ने अपने बंगले में आत्‍महत्‍या कर ली थी। उनके साथ उनकी मां ने भी खुदकुशी की थी। मां कुमुद का शव भी कमरे के सोफे पर मिला था। इसके बाद सुसाइड नोट में तीन कंपनियों पर पैसे का भुगतान नहीं करने का आरोप लगाया था। इसमें से एक अर्नब की रिपब्‍लिक कंपनी भी थी, जिसमें 83 लाख रुपये का भुगतान नहीं करने का आरोप लगाया था।

बिना सूचना के कैसे शुरु हुई कार्यवाई

महाराष्‍ट्र मानवाधिकार आयोग ने अर्नब की गिरफ्तारी में उठाए सवाल, एसपी को किया तलब

रायगढ़ पुलिस ने इस मामले में करीब एक साल तक जांच के बाद अप्रैल, 2019 में यह कहते हुए बंद कर दिया था कि आरोपियों के खिलाफ कोई सुबूत नहीं मिला। इसके बाद करीब एक साल तक अन्वय का परिवार चुप रहा। मई, 2020 में अन्वय की पुत्री आज्ञा नाईक ने राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख से मिलकर मामले की पुन: जांच की मांग उठाई। देशमुख कहते हैं कि बेटी ने मुझसे शिकायत की तो मैंने सीआईडी को इस मामले की पुन: जांच के आदेश दे दिए। कोर्ट ने भी मुंबई पुलिस के इस काम पर उनकी निंदा करी है कि बिना सूचना के अचानक से इस केस को कैसे खोला गया। अर्नब को अपने पक्ष में बोलने का समय भी नहीं दिया गया।

अर्नब के वकील ने बताई आपबीती

महाराष्‍ट्र मानवाधिकार आयोग ने अर्नब की गिरफ्तारी में उठाए सवाल, एसपी को किया तलब

अर्नब के वकील ने बताया कि उनके क्लाइंट के साथ पुलिस ने बहुत बत्तमीजीपूर्ण व्यवहार किया। उन्हें खीचा और बैक पर उनको मारा भी है।  अर्नब के 20 साल के बेटे को भी पुलिस ने नहीं छोड़ा है। मीडिया कर्मचारियों को पुलिस ने किसी न्यूज को कवर करने से इनकार करते हुए अर्नब के घर से भगा दिया। लीगल कार्यवाई में पुलिस को कोई ड़र नहीं होना चाहिये। 50 पुलिसकर्मी अकेले अर्नब को लेने आए जैसे की अर्नब जर्नलिस्ट ना होकर टेररिस्ट हो। इन पुलिसकर्मियों में से एक पुलिसकर्मी एंकाउटर स्पेशलिस्ट भी था। आपकों बता दे ये सारा वाकया अर्नब के एक बार बताए हुए वाकए से पूरा मिलता हुआ है कि कुछ समय पहले अर्नब ने अपने चैनल में दिखाया था कि कुछ समय बाद उन्हें ऐसा फिक्स किया जाएगा कि उनका चैनल ही बंद हो जाएगा।

 

 

 

 

ये भी पढ़े:

आज का राशिफल: शनिवार को खुलेगी इन 5 राशियों की किस्मत, सिंह राशि वाले न करें ये गलती |

अर्नब गोस्वामी को गिरफ्तारी पर भड़की कंगना रनौत और पायल घोष ने महाराष्ट्र सरकार को लताड़ा |

अर्नब गोस्वामी को गिरफ़्तारी पक्की करने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने किया था 40 सदस्यीय टीम का गठन|

बेंगलुरु में सड़क किनारे पौधे बेचने वाले बाबा को चाहिए मदद ,सोशल मीडिया पर हुए वायरल |

इस दिवाली, एक रूपए का यह नोट आपको कर देगा मालामाल, बस आपके नोट मे होनी चाहिए यह |