2 दिन लगातार बढ़त के बाद सस्ता हुआ सोना, इतने में मिल रहा
/

Gold Price 23 October: 2 दिन लगातार बढ़त के बाद सस्ता हुआ सोना, अब मात्र इतने में मिल रहा 1 तोला

पिछले काफी दिनों से सोने और चांदी के दाम में उतार -चढाव जारी था। वही पिछले काफी सालो से सोना का भाव महंगाई मापने का सर्वोत्तम मानक रहा है। सर्राफा बाजार

पिछले काफी दिनों से सोने और चांदी के दाम में उतार -चढाव जारी था। वही पिछले काफी सालो से सोना का भाव महंगाई मापने का सर्वोत्तम मानक रहा है। सर्राफा बाजार में गुरुवार को सोने-चांदी के कीमतों में तेजी आ गई है। इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन की वेबसाइट के अनुसार कल देशभर के सर्राफा बाजारों में 22 कैरेट गोल्ड 4,962 रुपये प्रति ग्राम रहेगा। वहीं कल 22 कैरट सोने का मूल्य 4,961 रूपए प्रति ग्राम रहा। दिल्ली में सोने की कीमत 95 रुपये की गिरावट के साथ 51,405 रुपये प्रति 10 ग्राम पर रह गया। पिछले साल में सोने का दाम 51,500 रुपये प्रति 10 ग्राम पर रहा था।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने की कीमत

Gold Price 23 October: 2 दिन लगातार बढ़त के बाद सस्ता हुआ सोना, अब मात्र इतने में मिल रहा 1 तोला

कल रुपया चार पैसे मजबूत होकर अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 73.54 के स्तर पर रहा। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने का भाव में गिरावट नजर आयी। वैश्विक बाजार में सोने का दाम 1,918 डॉलर प्रति औंस पर रह गया। वहीं, चांदी का भाव 24.89 डॉलर प्रति औंस पर रही। मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के वाइस प्रेसिडेंट नवनीत दमानी ने कहा कि कोरोना से जुड़े राहत पैकेज को लेकर टिप्पणी एवं डॉलर में कुछ रिकवरी के बीच सोने के दाम में गिरावट देखने को मिली। वहीं सोने के भाव में पिछले सत्र में तेजी देखने को मिली थी।

बाजार में सोने का भाव

Gold Price 23 October: 2 दिन लगातार बढ़त के बाद सस्ता हुआ सोना, अब मात्र इतने में मिल रहा 1 तोला

मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर सोने की कीमत 211 रुपये मतलब 0.41 फीसद की गिरावट के साथ 51,122 रुपये प्रति 10 ग्राम पर चल रहा था। इसमें 14,045 लॉट के लिए कारोबार हुआ। वहीं फरवरी में सोने का भाव 162 रुपये मतलब 0.32 फीसद की कमी के साथ 51,224 रुपये प्रति 10 पर ट्रेंड कर रहा था। सोने के दाम में बढ़ोत्‍तरी देश में गोल्‍ड ईटीएफएस के द्वारा निभाई जाने वाली भूमिका पर भी निर्भर करता है। जब गोल्‍ड ईटीएफ खरीदते हैं, तो यह इंटरनेशनल मार्केट में भाव के बढ़ने का कारण बनता है जो अंतत: चेन्‍नई में सोने के भाव पर प्रभाव डालता है। डॉलर में जब तेज़ी से उछाल होता है। तब सोने की कीमतों में गिरावट ला सकता है।