भारत में अगले 6 महीने में हो सकती है 3 लाख से ज्यादा की मौत: यूनिसेफ

WHO ने एक बार फिर से चेतावनी दी है कि दुनिया मे कोरोना संक्रमण दूसरे दौर से गुजर रही है और यूरोप पर कोरोना का दूसरे दौर का महामारी मंडरा रही है। दुनिया इस समय इस महामारी से जूझ रही है और मामले काफी तेजी से बढ़ती जा रहे हैं। WHO मुख्यालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर के बताया कि इस समय यह वायरस काफी खतरनाक बना हुआ है।

अमेरिका के साथ-साथ दक्षिण और पश्चिम एशिया में भी बड़ी संख्या में बढ़ रही है तथा इस संक्रमण से बचने के लिए लोगो से शाररिक दूरी बनाने एवं चौकन्ना रहने को कहा है। हालांकि यूरोपीय देशो में इसमें कुछ हफ्तों से कमी आयी है। वहीं ब्रिटेन ने कोरोना वायरस के लेकर एलर्ट को घटा दिया है। जबकि जर्मनी में काफी उछाल दर्ज की गई है।

इटली, ज़र्मनी, फ्रांस, ब्रिटेन सबसे ज्यादा प्रभावित रहे हैं, अब इन देश मे काफी गिरावट देखने को मिली है। वहीं WHO  ने कहा कि COVID-19 कई देशों में काफी सक्रिय है तथा सभी देशों में इसका खतरा बरकरार है। वहीं ब्रिटेन में कोरोना स्तर नीचे चला गया है। ब्रिटेन में अब तक 3 लाख से ज्यादा कोरोना के मामले पाय गए, जिसमे से 42 हजार से अधिक मौत हुई ।

संयुक्त राष्ट्र के संगठन यूनिसेफ़ (यूनाइटेड नेशंस चिल्ड्रेन्स इमर्जेंसी फ़ंड) ने इसी की आशंका जताई है.

यूनिसेफ़ ने कहा है कि

“भारत में अगले छह महीनों में पांच साल से कम उम्र के तीन लाख बच्चों की मौत हो सकती है. बाल मृत्यु का ये आँकड़ा उन मौतों से अलग होगा जो कोविड-19 के कारण हो रही है.”

यूनिसेफ़ के मुताबिक पूरे दक्षिण एशिया में पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मौत का आँकड़ा चार लाख 40 हज़ार तक पहुंच सकता है. इनमें सबसे ज़्यादा मौतें भारत में ही होने का अनुमान लगाया गया है.

 

 

 

HindNow Trending : यूपी में प्राथमिक विद्यालय खोले जाने की तारीख तय | कोरोनावायरस के बीच आई अच्छी खबर |
23 जून 2020 राशिफल | कंगना रानौत फिर भड़की | भारत ने चीन से कहा

Leave a comment

Your email address will not be published.