मुकेश अंबानी को क्या है पसंद? कैसा है पत्नी से सम्बंध, जानिए
/

देश के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी को क्या है पसंद? कैसा है पत्नी से सम्बंध, जानिए

कभी न कभी आपके मन में ये सवाल उठता होगा कि देश के सबसे अमीर शख्सियत मुकेश अंबानी क्या खाना पसंद करते होंगे ? वही इस बात का जवाब भी उनकी पत्नी नीता

कभी न कभी आपके मन में ये सवाल उठता होगा कि देश के सबसे अमीर शख्सियत मुकेश अंबानी क्या खाना पसंद करते होंगे? वहीं इस बात का जवाब भी उनकी पत्नी नीता अंबानी ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि वो सबसे ज्यादा इडली सांभर और बाजरे की रोटी खाना पसंद है। आगे नीता अंबानी कहती हैं कि यदि कुकिंग का सवाल है तो जब भी समय होता है, तो मै स्वयं से खाना बनाना पसंद करती हूँ।

आगे उन्होंने बताया कि मेरी बेटी ईशा अंबानी मुझसे ज्यादा अच्छी कुक है। यही नहीं पति मुकेश अंबानी के साथ अपनी केमिस्ट्री को लेकर उन्होंने बतया कि वह हमेशा प्रेरणा देते हैं और किसी भी प्रोजेक्ट में मेरे साथ खड़े रहते हैं।

उन्होंने कहा कि मुकेश अंबानी और उनके बीच अच्छे कपल की तरह शानदार बॉन्डिंग है और दोनों के बीच में एक दूसरे के विचारों का सम्मान करते हैं। हमारे लिए सभी सपने साझा हैं। यह हमारे परिवार के सपने हैं। हमारे सपनों से बच्चे भी प्रभावित होते हैं। बच्चो को भी सही दिशा में ले जाना है।

 

फिलहाल उन्होंने कारोबार से जुड़ी बातो को भी बताया कि कारोबार में उनको सलाह देने की बात है, तो मैं नहीं समझती कि मैं इस योग्य हूं कि मुकेश अंबानी को सलाह दे सकूं। हमारी जिंदगी के अनुभवों ने हमें बहुत कुछ सिखाया है। मैंने उनसे बहुत कुछ सीखा है। शायद सालों में जो उनसे सीखा है, वही मैं उन्हें कुछ हद लौटा सकती हूं।

नीता के अनुसार उन्हें उनकी सादगी बेहद अच्छी लगती है। वह कहती हैं कि मुकेश अंबानी की सबसे अच्छी चीज है कि वह बेहद सामान्य रहना पसंद करते हैं और उनका लक्ष्य सिर्फ रिलायंस के लिए ही नहीं है बल्कि पूरे देश के लिए है। वह शुरू से आशावादी हैं। अपने बचपन के दिनों को याद करती हूँ और इस बात पर नीता अंबानी ने इंटरव्यू में कहा था कि हम 11 बहने हैं। ममता उनकी सगी बहन हैं, जबकि उनकी 9 चचेरी बहनें थीं।

हम एक जॉइंट फैमिली में बड़े हुए हैं, तो हम सभी का यकीन शिक्षा की ताकत, महिलाओं की समानता और सशक्तीकरण हमेशा ध्यान में रहता था। वह कहती हैं, मैं अब जब भी सांताक्रूज स्थित अपने पैतृक आवास पर जाती हूं, तो पुरानी यादें वापस आ जाती हैं। मुझे अपने पुराने दिनों पर गर्व होता है कि मेरे परिवार ने ऐसी नींव डाली, जो आज मेरे लिए प्रेरणा है।