दिशा रवि

पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि की गिरफ्तारी पर पाकिस्तान से लेकर अमेरिका तक में चर्चा हो रही है, देश ही नहीं विदेश के भी कई नामी लोगों से समर्थन मिल रहा है। लोग उन्होंने रिहा करने की मांग कर रहे हैं। अमेरिका की उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस की भांजी मीना हैरिस ने भी दिशा रवि  को रिहा करने की मांग की है। चलिए जानते हैं और किसने किसा नामी हसती ने दिशा के बारे में क्या कहा है।

क्यो हो रही है दिशा रवि को रिहा करने मांग

टूलकिट मामले में दिशा रवि की गिरफ्तारी पर पाकिस्तान से लेकर अमेरिका तक क्यों हो रही है चर्चा

शनिवार शाम दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने ‘टूलकिट मामले’ में बेंगलुरु से दिशा रवि को गिरफ्तार किया था। रविवार को दिल्ली की एक अदालत ने दिशा को पांच  दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया था। हालांकि, दिशा रवि को पुलिस हिरासत में भेजे जाने पर कई कानून के जानकरों ने सवाल उठाये हैं। लिखा जा रहे है कि, ‘महिला का प्रतिनिधत्व करने के लिए कोर्ट में वकील की मौजूदगी सुनुश्चित किये बिना, जज ने उन्हें पांच दिन की पुलिस कस्टडी में भेजने का आदेश कैसे दें दिया?’

सोशल मीडिया पर दिशा के समर्थन में भी बहुत से लोगों ने लिखा है, और उन्हें रिहा करने की बात की है। समाचार एजेंजी पीटीआई के अनुसार, संयुक्त किसान मोर्चा ने भी पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि की गिरफ्तारी को लेकर दिल्ली पुलिस की आलोचना की है और उन्हें जल्द रिह करने की मांग की है।

विदेशों से भी उठ रही दिशा रवि को रिहा करने की मांग

अमेरिक की उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस की भांजी मीना हैरिस ने ट्वीट किया है, “भारतीय अधिकारियों ने एक और युवा महिला कार्यकर्ता को गिरफ्तार कर लिया है”। उन्होंने लिखा है, “22 साल की दिशा रवि को इसलिए गिरफ्तार कर लिया गया क्योंकि उन्होंने सोशल मीडिया पर किसानों के आंदोलन का समर्थन करने वाली एक टूलकिट शेयर की थी”। उन्होंने लिखा है, “भारत की सरकार यह सवाल किया जाना चाहिए कि वो क्यों कार्यकर्ताओं को चुप कराने की कोशिश कर रही है”।

ब्रिटेन की सांसद ने भी किया दिशा का समर्थन

ब्रिटेन की सांसद क्लॉडिया वेब्बे ने भी दिशा रवि के समर्थन में ट्वीट किया है उन्होंने लिखा है, “दिशा रवि एक पर्यावरण कार्यकर्ता हैं। वे भारत में साफ हवा, स्वच्छ पानी और रहने लायक वातावरण के लिए लड़ती हैं”। उन्होंने लिखा है, “किसानों का समर्थन करने के लिए उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। चुप रहना कोई विकल्प नहीं है। हम सभी को इस कार्यवाई के खिलाफ बोलना चाहिए”।

पाकिस्तान से भी आई है प्रतिक्रिया

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की ‘पाकिस्तान तहरीके इंसाफ पार्टी’ ने भी दिशा रवि के समर्थन में ट्वीट किया है, पार्टी ने लिखा है, “मोदी और आरएसएस का राज इस बात में विश्वास रखता है कि उनके खिलाफ उठने वाली सभी आवाजो को दबा दिया, जैसा उन्होंने कश्मीर में किया। अपनी बात कहने के लिए भारतीय क्रिकेटरों और बॉलिवुड के कलाकारों का इस्तेमाल करना वैसे भी बेशर्मी की बात थी, लेकिन अब उन्होंने टूलकिट दस्तावेज को आधार बनाकर दिशा रवि को भी गिरफ्तार कर लिया है”।

दिशा रवि
Pc: Social Media

भारत में भी दिशा को रिहा करने की मांग हो रही है।

कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी दिशा रवि के समर्थन में ट्वीट किया है, उन्होंने लिखा है, “डरते हैं बंदूकों वाले एक निहत्थी लड़की से, फैले हैं हिम्मत के उजाले एक निहत्थी लड़की से”।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी दिशा के समर्थन में ट्वीट करके लिखा है, “22 साल की दिशा रवि की गिरफ्तारी लोकतंत्र पर हमला है। किसानों का साथ देना कोई अपराध नहीं”।

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और  ‘बेंगलुरु सेंट्रल’ संसदीय क्षेत्र से पार्टी के सांसद पीसी मोहन ने पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि की तुलना मुंबई के 26/11 हमले में पकड़े गए पाकिस्तानी चरमपंथी मोहम्मद अजमल आमिर कसाब से की है। पीसी मोहन ने ट्वीटर पर लिखा है, “बुरहान वानी भी 21 वर्ष का था। अजमल कसाब भी 21 वर्ष का था। बस उम्र एक संख्या है। कोई भी कानून से ऊपर नहीं है। कानून को अपना काम करने दीजिए। एक अपराध, हमेशा अपराध ही रहेगा”।